Corona_UpdatesNational

लॉकडाउन : भगवान के घर में भी सुरक्षित नहीं हैं नौकरियां, तिरुपति बालाजी मंदिर से हटाये 1300 कर्मचारी

New Delhi :  लॉकडाउन का असर बड़े-बड़े कारोबारी संस्थानों पर पड़ रहा है, ये तो हम जानते आये हैं. लेकिन अब लॉकडाउन ने मंदिरों को भी जद में लेना शुरू कर दिया है. खबर है कि आंध्रप्रदेश के तिरुपति मंदिर में काम करने वाले 1300 कर्मचारियों को बाहर का दरवाजा दिखा दिया गया है.

दरअसल ये स्थायी कर्मचारी नहीं हैं. इनका अनुबंध पिछे 30 अप्रैल को खत्म हो गया था. अब मंदिर प्रबंधन ने नया अनुबंध यानी इन कर्मयों को आगे नौकरी पर निरंतर करने से इनकार कर दिया है. इससे ये मंदिर के ये कर्मी अब सड़क पर आ जाने की स्थिति में आ गये हैं.

advt

इसे भी पढ़ें :  झारखंड के 200 से अधिक एआइसीटीइ एप्रूव्ड तकनीकी व मैनेजमेंट संस्थानों में नहीं बढ़ेगी फीस, 1 जुलाई से शुरू होंगे शैक्षणिक सत्र

इस संबंध में बालाजी तिरुपति मंदिर प्रबंधन की ओर से सफाय़ी भी दी गयी है. इसमें कहा गया है है लॉकडाउन के कारण मंदिर में श्रद्धालुओं का आना बंद या कम हो गया है. इससे मंदिर में और इससे जुड़ी इकाइयों में अब पहले जैसा काम नहीं है.

जबतक लॉकडाउन रहेगा. यही स्थिति रहने वाली है. इसलिए अब आगे मंदिर प्रबंधन इन मजदूरों का खर्च उठाने में सक्षम नहीं हो पायेगा. इसलिए अब 1300 कर्मचारियों के अनुबंध को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: गोलीबारी में घायल जवान बेहतर इलाज के लिए PMCH रेफर, CM हेमंत ने बिहार सरकार से मांगी मदद

ये 1300 कर्मचारी कहां काम करते थे

दरअसल बालाजी तिरुपति मंदिर का प्रबंधन तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (TTD) की निगरानी में काम करता है. टीटीडी की ओर से तीन गेस्ट हाउस का संचालन होता है. ये 1300 कर्मचारी इन्हीं गेस्टहाउस में काम करते हैं. लॉकडाउन की वजह से ये गेस्टहाउस भी बंद हैं. जिससे प्रबंधन को घाटा उठाना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंः दिल्ली के कापसहेड़ा में एक बिल्डिंग के 41 लोगों को #Corona, यूज करते थे एक ही टॉयलेट

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: