Khas-KhabarRanchi

लॉकडाउन की छूट में दुकानों के खुलते ही बढ़ी बिजली डिमांड, अब शुरू हुआ लोड शेडिंग का खेल

  •  लॉकडाउन के प्रथम चरण से बिजली की मांग कम थी, 800 मेगावाट से अब 1000 तक हुई मांग

Ranchi : लॉकडाउन के बीच मिली छूट में जब दुकानें और फैक्ट्रियां खुल गयी हैं. तो बिजली की डिमांड भी बढ़ी है. लॉकडाउन के शुरूआती दौर में राज्य में बिजली की मांग में कमी देखी गयी थी. लेकिन अब राज्य में बिजली की मांग बढ़ने के साथ ही लोड शेडिंग भी शुरू हो गयी है. जिससे कुछ इलाकों में बिजली की आंख मिचैली भी जारी है.

अम्फान तूफान के कारण भी सब स्टेशनों में बिजली कटौती की गयी. हालांकि इसके लिए तैयारी की गयी थी. सुरक्षा मापदंडों को ध्यान में रखते हुए ऐसा किया गया था. राज्य के अपने स्रोतों की बात करें, तो सिकिदरी से बिजली उत्पादन पूरी तरह ठप रहा. सिकिदरी हाइडल पावर प्लांट पिछले साल से पूरी तरह बंद है. जनवरी-फरवरी महीने में कुछ दिनों के लिए प्लांट को शुरू किया गया था. बाद में फिर से इसे बंद कर दिया गया. फिलहाल प्लांट पानी की कमी के कारण बंद है.

टीयूभीएनएल की दोनों यूनिटों से बिजली उत्पादन हो रहा है. लेकिन किसी-किसी दिन यह प्रभावित भी रहा. लॉकडाउन के दौरान राज्य की बिजली मांग में काफी कमी पायी गयी. हालांकि 20 और 21 मई को मांग में कोई खास वृद्धि भी नहीं देखी गयी.

advt

700 से 800 मेगावाट तक होती थी मांग

आंकड़ों की मानें तो 25 मार्च से ही मांग में कमी आयी. जो 700-800 मेगावाट तक रही. हालांकि इसके पहले औसतन 1200 मेगावाट तक मांग रहती थी. लॉकडाउन चार के बाद से इसमें सुधार देखा जा रहा है. प्रतिष्ठान और उद्योगों के खुलने से मांग में लगातार वृद्धि हो रही है.

16 मई से देखें तो 1000 मेगावाट से अधिक की मांग हो रही है. जबकि 15 मई तक यह मांग 940 मेगावाट रही. जेबीवीएनएल की मानें तो सामान्य दिनों के पीक ऑवर में 1200 से 1300 मेगावाट बिजली की मांग रहती है.

जबकि शाम में यह मांग एक हजार मेगावाट तक रहती है. हालांकि इस दौरान राज्य की ओर से अन्य राज्यों को बिजली भी दी गयी. जो लगभग 244 मेगावाट तक रही.

टीटीपीएस से जारी रहा उत्पादन

लॉकडाउन के पहले तक टीटीपीएस से बिजली उत्पादन प्रभावित थी. लेकिन 15 मई के पहले से यहां बिजली उत्पादन जारी रही. लेकिन 15 मई से टीटीपीएस के दोनों यूनिट से 240 मेगावाट, 16 मई को 319 मेगावाट, 17 मई को 313 मेगावाट, 18 मई 299 मेगावाट, 19 मई के दिन 299 मेगावाट, 20 मई को एक यूनिट बंद रही. वहीं यूनिट टू से 151 मेगावाट उत्पादन रहा. 21 मई को भी एक यूनिट बंद रहा. यूनिट टू से 151 मेगावाट बिजली उत्पादन किया गया.

adv

बता दें कि टीटीपीएस में दो यूनिट है. एक यूनिट की क्षमता 210 मेगावाट है. जबकि उत्पादन का लक्ष्य 160 से 170 मेगावाट तक रखा जाता है. दोनों यूनिट मिलाकर कुल 420 मेगावाट का लक्ष्य है.

15 मई से बिजली की स्थिति

तारीख बिजली की मांग लोड शेडिंग
15 मई 940 मेगावाट 91 मेगावाट
16 मई 1050 मेगावाट नहीं
17 मई 1061 मेगावाट नहीं
18 मई 1082 मेगावाट 76 मेगावाट
19 मई 1085 मेगावाट नहीं
20 मई 571 मेगावाट नहीं
21 मई 763 मेगावाट नहीं

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button