GiridihJharkhandNEWS

#Lockdown: गिरिडीह जिले में बंद पड़ी करोड़ों की योजनाओं को डीसी ने शुरू करने का दिया निर्देश

  • नगर निगम इलाके में ठप रहेगा हर कार्य
  • योजनाओं को दुबारा शुरू करने के मामले में राज्य का पहला जिला बना गिरिडीह

Giridih: लॉकडाउन के कारण बंद पड़ी करोड़ों की योजनाओं को दुबारा शुरू करने का निर्देश डीसी राहुल सिन्हा ने अधिकारियों को दिया है. बुधवार को चैंबर में अधिकारियों के साथ बैठक कर डीसी ने ग्रामीण क्षेत्रों में हर निर्माण कार्य को शुरू करने की बात कही.

हालांकि गिरिडीह नगर निगम इलाके में योजनाओं को शुरू करने का कोई निर्देश नहीं दिया गया. लेकिन लॉकडाउन के बीच हुई बैठक में डीसी ने कई विकास एजेंसियों के पदाधिकारियों से कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में सड़क निर्माण का कार्य हो या इंदिरा आवास निर्माण का कार्य, हर योजना को चरणबद्ध तरीके से शुरू करें.

साथ ही अधिकारियों को शारीरिक दूरी के नियमों का सख्ती से पालन कराने की बात कही जिससे कोरोना के संक्रमण का खतरा नहीं हो. वैसे बैठक में कुछ पदाधिकारियों ने समस्याओं को भी रखा.

advt

इसे भी पढ़ें – #Corona : जामताड़ा में एक और कोरोना पॉजिटिव, राज्य में संक्रमितों की संख्या 106 हुई

रॉ मैटेरियल की होम डिलीवरी

पदाधिकारियों ने कहा कि सड़क निर्माण के लिए रॉ मैटेरियल की जरूरत होने के बाद योजना स्थल पर सामानों को जुटाने में परेशानी है. इस दौरान डीसी ने पदाधिकारियों को स्टोन चिप्स के इस्तेमाल का सुझाव दिया.

साथ ही कहा कि हर प्रकार के रॉ मैटेरियल की होम डिलीवरी कराने की व्यवस्था करें. सीमेंट और छड़ की दुकानों के खुलने से खरीदारों की भीड़ होना तय है.

ऐसे में जितने रॉ मैटेरियल हैं उन सबकी होम डिलीवरी कराने की व्यवस्था करें क्योंकि ट्रांसपोर्टशन को बंद नहीं किया गया है.

adv

बैठक में भवन प्रमंडल के पदाधिकारी को बंद पड़े नये समारणालय भवन पर निर्माण कार्य शुरू करने का निर्देश दिया गया.

इसी प्रकार पथ प्रमंडल को जिले के नक्सल प्रभावित समेत ग्रामीण क्षेत्र के योजनाओं को भी शुरू करने का निर्देश मिला.

इसे भी पढ़ें –#RIMS निदेशक ने कहा था- पद छोड़ने के लिए अभी स्थिति अनुकूल नहीं; फिर भी स्वास्थ्य मंत्री ने कर दी अनुशंसा

ठेकेदारों को परिचय पत्र देने से इनकार

विशेष प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता भोला राम ने ठेकेदारों को परिचय पत्र उपलब्ध कराने का सुझाव दिया. लेकिन डीसी ने ठेकेदारों को परिचय पत्र निर्गत करने पर साफ तौर पर इंकार करते हुए कहा कि संवेदकों को योजना स्थल आने-जाने में कोई परेशानी नहीं है. संवेदकों को परिचय पत्र देने पर गलत इस्तेमाल किए जाने की बात कही गयी.

इस दौरान पीएचईडी के दोनों कार्यपालक अभियंताओं को डीसी ने ग्रामीण क्षेत्र में पेयजलापूर्ति से जुड़ी योजनाओं को शुरू करने का निर्देश दिया जबकि लघु सिंचाई को बंद पड़े चैकडेम व तालाब निर्माण के योजनाओं को शुरू कराने की बात कही.

बैठक में अपर समाहर्ता आलोक कुमार के साथ जिला भू-अर्जन पदाधिकारी हेमलता प्रसाद भी मौजूद थीं.

इसे भी पढ़ें – 7 लाख लंबित राशन कार्ड आवेदनकर्ताओं में से 65% को नहीं मिला राशन, 35% परिवार को ही मिला लाभ

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button