Corona_UpdatesDeogharDumkaJharkhand

#Lockdown: संताल परगना के लोग घर जाने की हड़बड़ी से बचें, देवघर-दुमका में सरकार ने बनाया आश्रयगृह

  • लॉकडाउन की मियाद खत्म होने तक मिलेगा लाभ
  • लॉक डाउन के दरम्यान लोगों की सुविधा के लिए देवघर और दुमका में बनाये गये हैं आश्रयगृह

Ranchi: कोरोना के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम हेतु पूरे देश में लॉक डाउन घोषित किया गया है. इस महामारी की त्रासदी ने झारखण्ड से बाहर रह रहे लोगों के लिए बड़ी आफत ला दी है.

खासकर दूसरे राज्यों में रोजी रोजगार की तलाश में निकले लोग किसी तरह अपने घर वापसी में लगे हैं. ऐसे लोगों को तत्काल राहत मुहैया कराने के लिए देवघर और दुमका जिला प्रशासन के स्तर से आश्रय गृह की व्यवस्था की गयी है. घर वापसी में लगे संतालपरगना के लोग यहां निःशुल्क शरण ले सकते हैं.

आश्रय गृह में उपलब्ध करायी गयी हैं सभी आवश्यक सुविधाएं

लॉक डाउन की वजह से देवघर, दुमका सहित विभिन्न क्षेत्रों के लोगों के लिए अपने अपने गांव पहुंचना अभी कठिन काम है. ऐसे में जो लोग बाहर से देवघर, दुमका तक पहुंच चुके हैं या किसी कारण से यहीं फंसे हुए हैं, उनके लिए जिला प्रशासन ने आश्रय गृह की सुविधा उपलब्ध करायी है.

इनमें दूसरे राज्यों से आये नागरिक भी शामिल हैं. देवघर और दुमका में तैयार आश्रय गृहों में सभी आवश्यक बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी हैं. आवासन, पानी, दवा, भोजन आदि की सुविधा इनमें उपलब्ध हैं.

देवघर जिला अंतर्गत कल्याण विभाग के छात्रावासों को अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है. दुमका में सराय रोड स्थित आश्रय गृह को बाहर के जिले से आए नागरिकों के आवासन हेतु बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें : #FightAgainstCorona : सैंपलों की जांच के लिए मंगायी गयी 4 नयी जांच मशीनें, 1 रिम्स में लगेगी

बाहर से आये लोगों को आश्रय गृहों के बारे में स्थानीय लोग दें जानकारी

देवघर डीसी नैंसी सहाय और दुमका डीसी उपायुक्त राजेश्वरी बी ने जिलावासियों से अपील करते हुए कहा है कि जो लोग बाहर से आ रहे हैं और आश्रयविहिन हैं, उन्हें प्रशासन द्वारा तैयार किये गये चिन्हित आश्रयगृह की जानकारियों से अवगत करायें.

इससे ऐसे लोगों को लॉकडाउन के दरम्यान हो रही तकलीफों से राहत मिलेगी. चिन्हित सभी आश्रयगृह में मुलभूत सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी हैं. जैसे रहने हेतु कमरों की विशेष रूप से साफ-सफाई, आश्रितों के लिए पेयजल, शौचालय, बेड एवं खाने पीने की व्यवस्था के इंतजाम किये गये हैं.

देवघर में इन सारी सुविधाओं को चिन्हित स्थलों पर व्यवस्थित करने हेतु संबंधित प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, अचंलाधिकारी को जिम्मेदारी दी गयी है. दुमका उपायुक्त राजेश्वरी बी के अनुसार नोबेल कोरोनावायरस का संभावित संक्रमण एवं प्रसार को देखते हुए राज्य और केंद्र सरकार द्वारा पूर्णतया तालाबंदी की स्थिति को अधिसूचित किया गया है.

तालाबंदी अवधि में वाहनों की आवाजाही पर पाबंदी लगा दी गयी है. तालाबंदी अवधि के दौरान कई नागरिक बाहर के जिलों एवं राज्यों से दुमका पहुंचे हैं और वाहनों की आवाजाही बंद रहने के कारण फंस गये हैं.

ऐसे नागरिकों के लिए आवासन की व्यवस्था की गयी है. दुमका में सराय रोड में आश्रय गृह तैयार है. यह आश्रय गृह तत्काल प्रभाव से तालाबंदी अवधि तक के लिए बनाया गया है. आश्रय गृह में आश्रय प्राप्त करने हेतु मोबाइल नंबर 70049 34160 पर संपर्क किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें : #Lockdown : आसनसोल, चतरा व लातेहार से सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलकर गोमिया पहुंचे 38 प्रवासी व अन्य मज़दूर

देवघर जिला अंतर्गत इन स्थानों पर बनायें गये हैं आश्रयगृह

  1. एएस महाविद्यालय परिसर स्थित पिछड़ी जाति कल्याण छात्रावास, देवघर, रमादेवी महिला महाविद्यालय परिसर स्थित बालिका अनुसूचित जाति छात्रावास, देवघर एवं मातृमंदिर परिसर स्थित अनुसूचित जनजाति छात्रावास, देवघर का (उपरी तल) को देवघर प्रखण्ड हेतु अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है.
  2. लखोरिया उच्च विद्यालय, परिसर स्थित पिछड़ी जाति छात्रावास, लखोरिया, सारवां प्रखण्ड हेतु अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है.
  3. रा. कल्याण उच्च विद्यालय, चुल्हिया स्थित अनु. जाति छात्रावास, चुल्हिया मोहनपुर प्रखंड हेतु अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है.
  4. बभनगामा उच्च विद्यालय, परिसर स्थित कल्याण छात्रावास, बभनगामा, सारठ प्रखण्ड हेतु अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है.
  5. सरसा उच्च विद्यालय, परिसर स्थित अनु. जाति कल्याण छात्रावास, सरसा, पालाजोरी एवं सिमला उच्च विद्यालय परिसर स्थित अनु0जन जाति छात्रावास, सिमला, पालाजोरी प्रखण्ड हेतु अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है.
  6. अंची देवी बालिका +2 विद्यालय परिसर स्थित अनु. जाति कल्याण छात्रावास, मधुपुर, अंची देवी बालिका+2 विद्यालय परिसर स्थित अनु. जनजाति कल्याण छात्रावास, मधुपुर एवं अंची देवी बालिका+2 विद्यालय परिसर स्थित अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास, मधुपुर प्रखण्ड हेतु अस्थायी आश्रय गृह के रूप में चिन्हित किया गया है.

इसे भी पढ़ें : #CoronaLockdown : सड़ने लगे हैं फल, लॉकडाउन के कारण घर नहीं जा पा रहे ट्रक चालक

न्यूज विंग की अपील

देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: