Ranchi

हत्या के विरोध में स्थानीय लोगों ने डोरंडा-नामकुम सड़क को किया जाम, अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग

Ranchi: राजधानी रांची में बढ़ते अपराधों को लेकर लोगों में आक्रोश है. वही मंगलवार को डोरंडा थाना क्षेत्र के घाघरा में अज्ञात अपराधियों द्वारा ग्रामसभा के सचिव शंकर सुरेश पर जानलेवा हमला करने और उनके दोस्त सामू की हत्या के विरोध में स्थानीय लोगों ने डोरंडा- नामकुम सड़क को जाम कर दिया है. स्थानीय लोगों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग की.

मंगलवार रात हुई हत्या

ज्ञात हो कि अपराधियों ने मंगलवार की देर रात डोरंडा थाना क्षेत्र के घाघरा में ग्रामसभा के सचिव शंकर सुरेश और उनके दोस्त सामू को गोली मारी, इस घटना में जहां सामू की मौत घटनास्थल पर ही हो गई. वहीं घायल शंकर को आनन-फानन में स्थानीय लोगों की मदद से इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है. शंकर की स्थिति गंभीर बनी हुई है. जमीन विवाद में हत्या की बात सामने आ रही है.

 कैसे मारी गई गोली

मिली जानकारी के अनुसार, शंकर,सुरेश और शामू मोटरसाइकिल से खुशबू टोली से कुसई की ओर जा रहे थे. इसी क्रम में बड़ा घाघरा के पास अज्ञात अपराधियों ने पीछे से दोनों को गोली मारी दी. गोली लगते ही दोनों ही गिर गए. शामू उरांव की घटनास्थल पर ही मौत हो गई और शंकर सुरेश उरांव की पीठ और बाईं बांह में दो गोली लगी है. सुरेश उरांव गोली लगने के बाद भागते हुए बिरसा कच्छप नाम के व्यक्ति के घर में छिप गए. जिसके बाद स्थानीय लोगों को मामला की जानकारी मिली. बाद में सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची और छानबीन में जुट गई.

 जमीन विवाद में मारी गई गोली

मिली जानकारी के अनुसार, बड़ा घाघरा क्षेत्र में जमीन को लेकर काफी विवाद चल रहा है. ग्राम सभा सचिव सुरेश उरांव आदिवासियों की जमीन को बचाने में लगे हुए हैं. इस वजह से जमीन माफिया से विवाद भी होते रहा है. कुछ दिन पहले सुरेश उरांव को धमकी मिली थी कि वो जमीन विवाद में ना पड़े लेकिन वह जमीन को बचाने की कोशिश में लगे हुए थे. माना जा रहा है कि ये हमला इसी विवाद को लेकर हुआ है.

इसे भी पढ़ेंः सरयू बोले पणिक्कर कंबल घोटाला को लेकर जांच के लिए हुईं थीं तैयार, इसी शर्त पर गया था खूंटी, पणिक्कर ने कहा-हां, हो निष्पक्ष जांच

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: