Budget 2021JharkhandLead NewsRanchi

प्लस टू स्कूलों में स्थानीय भाषा के शिक्षकों का होगा पद सृजन, जल्द होगी बहाली

आरयू में क्षेत्रीय भाषाओं के 29 और जनजातीय भाषा के 9 पदों के भी सृजन की स्वीकृति

Ranchi: राज्य के सभी प्लस टू स्कूलों में स्थानीय भाषा के शिक्षकों के पद सृजित किये जायेंगे. विधानसभा में बजट सत्र के अंतिम दिन विधायक बंधु तिर्की के सवाल का जवाब देते हुए मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने यह जानकारी दी. मंत्री ने बताया कि पद का सृजन कर सरकार जल्द ही बहाली भी करेगी.

मालूम हो कि राज्य के प्लस टू स्कूलों में स्थानीय भाषा के शिक्षकों का पद है ही नहीं. स्टीफन मरांडी ने कहा कि जब प्राथमिक स्तर पर स्थानीय भाषा की पढ़ाई होती ही नहीं तो फिर पीजी में पढ़ाई का क्या फायदा.

उन्होंने हर स्तर पर स्थानीय भाषा की पढ़ाई अनिवार्य करने की मांग की है. मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि प्राथमिक स्कूलों में जरूरत क्या है इसका सरकार सर्वे कराएगी, उसके बाद पद सृजन और नियुक्ति पर विचार करेगी.

advt

बंधु तिर्की ने रांची यूनिवर्सिटी के पीजी विभाग में संचालित नौ जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं के शिक्षक की कमी का मामला उठाया था. जिसपर सरकार ने कहा कि क्षेत्रीय भाषाओं के 29 और जनजातीय भाषा के 9 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गयी है.

इसे भी पढ़ें :मां की बात मान लेता तो शायद, बच जाती निखिल की जान

उच्च विद्यालयों में 812 पद हैं खाली

सरकार के द्वारा दिये गए जवाब में बताया गया है कि राज्य में स्थानीय भाषा के कुल 1278 पद सृजित हैं. जिसमें अब तक 812 पद खाली हैं. 2008 में 68, 2011 में 74, 2016 2017 में 324 पदों पर नियुक्ति की गई है.

तीनों नियुक्ति में 495 पदों की अनुशंसा की गयी थी. बताया गया कि कुल अनुशंसित सीटों के विरुद्ध सभी सीटों को इसलिये नहीं भरा गया क्योंकि अभ्यर्थी अर्हता पूरी नहीं कर सके थे.

इसे भी पढ़ें :वहशीपनः अधेड़ दुकानदार ने 10 दिनों में 6 बच्चियों को बनाया हवस का शिकार, सभी बच्चियां 7 से कम उम्र की

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: