न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची, हटिया, धनबाद और सिंदरी के लिए BJP में अभी से लॉबिंग शुरू, कट सकता है सिटिंग MLA का टिकट!

5,830

Akshay Kumar Jha

Ranchi: कांग्रेस को छोड़कर प्रदेश की लगभग सभी पार्टियां इलेक्शन मोड में चली गयी है. इसमें बीजेपी की तैयारी सबसे अच्छी लग रही है.

चुनाव के लिए पार्टी ने चुनाव प्रभारी तक नियुक्त कर दिया है. लिहाजा हर सीट के लिए टिकट की जोर आजमाइश तेज हो चुकी है.

लॉबिंग हो रही है. दूसरी कमजोर पार्टियों को छोड़ विधायक बनने की चाह रखने वाले नेता बीजेपी ज्वाइन कर रहे हैं. ऐसे में खबर निकल कर यह आ रही है कि हटिया, रांची, धनबाद और सिंदरी विधानसभा के टिकट के लिए साम दाम दंड भेद खेल शुरू हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंःSAIL के कारखाने बिकेंगे नहीं, लेकिन निजीकरण और ज्वाइंट वेंचर के दरवाजे खुले हैं: इस्पात मंत्री    

रांचीः उम्र हो सकती है बड़ी वजह

रांची विधानसभा झारखंड की सबसे हॉट सीट में से एक है. शहरी क्षेत्र होने के नाते यहां बीजेपी की पकड़ काफी मजबूत मानी जाती है. लिहाजा बीजेपी से सीपी सिंह यहां 1996, 2000, 2005, 2009 and 2014 पांच बार विधायक बन चुके हैं.

लेकिन इस बार रांची से सीपी सिंह को टिकट मिल जाए, यह तय नहीं माना जा रहा है. माना जा रहा है कि उम्र उनके टिकट के आड़े आ सकता है.

दूसरी तरफ टिकट के लिए रांची के डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय जी-जान से लगे हुए हैं. उन्होंने लोकसभा चुनाव में संजय सेठ को जिताने में एड़ी चोटी का जोर लगाया था.

वहीं दूसरे नंबर पर सरकार के करीबी भानू जलान का भी नाम चल रहा है. भानू जलान रघुवर दास के काफी करीबी माने जाते हैं. तीसरे नंबर पर बीजेपी महानगर के अध्यक्ष मनोज मिश्रा भी रांची से विधायक बनने के पूरी कामना रखे हुए हैं.

पार्टी कार्यकर्ता के रूप में उनकी छवि मानी जाती रही है. देखने वाली बात होगी कि राजधानी रांची में वो कौन है जो बाजी मार सकता है.

हटियाः पार्टी छोड़ने का बलिदान खाली ना चला जाये

हटिया के मौजूदा विधायक हो भले बीजेपी के. लेकिन चुनाव उन्होंने बीजेपी की टिकट पर नहीं लड़ा था. जेवीएम से बीजेपी में शामिल होने का इनाम भी दूसरों की तरह नवीन जायसवाल को नहीं मिला है. लेकिन इस बार बीजेपी से टिकट की चाह इन्होंने जरूर रखी है.

इसे भी पढ़ेंःमुस्लिम बहुल होने के कारण जम्मू-कश्मीर से हटा अनुच्छेद 370: चिदंबरम

इनके रास्ते की सबसे बड़ी दिक्कत आने वाले दिनों में सीमा शर्मा बनने जा रही है. बीजेपी से सीमा का पुराना नाता है और कभी भी वो गेम चेंजर बन सकती हैं.

वहीं बीजेपी के कार्यालय पदाधिकारी और बीजेपी में अपनी मजबूत पकड़ के लिए जानने वाले दीपक प्रकाश का भी नाम चल रहा है. ऐसे में अभी से टिकट किसके नाम का पक्का है, यह कहना मुश्किल है.

धनबादः मामला रिश्तों का है

धनबाद विधानसभा में बीजेपी दो भाग में बंटी हुई है. पहला विधायक राज सिन्हा और दूसरा वहां के मेयर चंद्रशेखऱ अग्रवाल. राज सिन्हा और चंद्रशेखऱ अग्रवाल के बीच इतनी खटास है कि बीजेपी कार्यालय के बाहर तख्ती लटका दी जाती है कि Mayor Not Allowed.

मामला इतना बढ़ जाता है कि रघुवर दास के निर्देश पर पार्टी शीर्ष हस्तक्षेप करते हैं और मामला सुलझाते हैं. लेकिन विधायक और मेयर के बीच मधुर संबंध स्थापित नहीं हो पाता है. राज सिन्हा को 2014 में पहली बार टिकट मिली थी और उन्होंने जीत हासिल की थी.

वहीं चंद्रशेखर अग्रवाल रघुवर दास के करीबी हैं और वो धनबाद में कभी भी गेम चेंजर की भूमिका में आ सकते हैं.

सिंदरीः विधायक पिता-पुत्र या मारेगा कोई और ही बाजी

देखा जाये को सिंदरी में बीजेपी की 2014 में 1.37 लाख वोट से ऐतिहासिक जीत हुई थी. लेकिन क्या फूलचंद मंडल ऐसा दोबारा कर सकेंगे. क्योंकि सिंदरी विधानसभा की टिकट को लेकर भी काफी चक्कर है.

यहां फूलचंद मंडल अपने बेटे धरनीदार मंडल को फोकस करना चाहते हैं. लेकिन विधायक जी का यह प्लान सफल नहीं माना जा रहा है. क्योंकि फूलचंद मंडल को सीधी टक्कर दो बार जिल परिषद सदस्य रहे इंद्रजीत महतो दे रहे हैं.

उस क्षेत्र से अकेला महतो नेता होने का उन्हें फायदा हमेशा मिलता है. लेकिन शहरी क्षेत्र में पकड़ रखने वाले धर्मजीत सिंह जो रांची पार्टी कार्यालय के काफी करीबी और काफी कम उम्र के हैं झटका दे सकते हैं. ऐसे में सिंदरी सीट के टिकट की खिचड़ी का स्वाद कैसा होगा. कह पाना मुश्किल है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: