JharkhandLead NewsRanchi

हिंदी शिक्षकों की तरह झारखंड के उर्दू शिक्षक चाहते हैं वेतन, आक्रोश

उर्दू शिक्षकों ने की है गैर योजना मद से वेतन दें

Ranchi : राज्य में शिक्षकों के वेतनमान को लेकर कई गड़बड़ियां सामने आ रहीं हैं. शुरू से ही उर्दू शिक्षकों के वेतन भुगतान को लेकर समस्या सामने आती रही है. ख़ास करके राज्य के क़रीब 1000 उर्दू शिक्षकों को सामान्य शिक्षकों की तरह समय पर वेतन नहीं मिलने से उनमें आक्रोश है. अब इन शिक्षकों के समर्थन में उर्दू प्राथमिक शिक्षक मंच सामने आया है और उनका कहना है कि सरकार उर्दू शिक्षकों को सामान्य शिक्षकों की तरह ग़ैर योजना मद से वेतन दें.

 

इस समस्या को लेकर शिक्षकों ने पहले की भी सरकार से आग्रह किया था लेकिन इस दिशा में कभी भी कोई सकारात्मक क़दम नहीं उठाए जा सका, जिसका खामियाजा उर्दू शिक्षकों को हर माह भुगतना पड़ता है.

 

शिक्षक मंच ने दिया अल्टीमेटम

 

अब शिक्षक मंच ने इसका कड़ा विरोध किया है और सरकार से स्पष्ट कहा है कि शिक्षकों के वेतन में आ रही विसंगती को दूर किया जाए. मंच ने कहा है अगर इस समस्या का निदान जल्द नहीं होता है जोरदार विरोध किया जाएगा. शिक्षकों का कहना है कि जब एक विज्ञापन और एक नियुक्ति हुई है इसके बावजूद दोनों शिक्षकों को अलग अलग मत में रखने का क्या औचित्य है। इससे सबसे बड़ी समस्या राज्यभर के उर्दू शिक्षकों को वेतन भुगतान में विलम्ब होता है।

उर्दू शिक्षकों ने मांग है कि उन्हें भी ग़ैर योजना मद से वेतन भुगतान किया जाये. अभी सामान्य हिंदी शिक्षकों का वेतन भुगतान प्रखंड स्तर की निकासी से किया जाता है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: