न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आंधी-पानी में पूरे राज्य में बिजली गुल, राजधानी में लगभग चार घंटे तक रही बत्ती गुल

आंधी-पानी के कारण बिजली आपूर्ति ठप हो गयी, मांग घटकर 670 मेगावाट हो गयी

97

Ranchi :  प्रदेश में बिजली की स्थिति ऐसी है कि पत्ता भी खड़के तो बत्ती गुल हो जाती है. शुक्रवार को अपराह्न 3:15 बजे से शुरू हुई आंधी-पानी में राजधानी समेत पूरे प्रदेश में बिजली आपूर्ति ठप हो गयी. आंधी-पानी के कारण लगभग चार घंटे तक राजधानी में बिजली आपूर्ति बाधित रही. शाम छह बजे के बाद से राजधानी के विभिन्न इलाकों में बिजली आपूर्ति शुरू हुई. रातू रोड, कांके रोड, डोरंडा, पहाड़ी मंदिर का इलाका, हेहल, बजरा, देवी मंडप रोड, किशोरगंज, कांटाटोली, डंगराटोली, कोकर, बरियातू, विकास, बूटी मोड़, नामकुम, सिदरौस समेत अन्य इलाकों में आंधी-पानी के कारण आपूर्ति बाधित रही. खबर लिखे जाने तक कई इलाकों में बिजली आपूर्ति शुरू भी नहीं हो पायी थी.

इसे भी पढ़ें :जो बायोमेट्रिक मशीनें कई संस्थानों में चलती हैं स्मूदली, वो रांची के निगम ऑफिस में हैं फेल!

आंधी-पानी के कारण 280 मेगावाट बिजली करनी पड़ी सरेंडर

आंधी-पानी के कारण बिजली आपूर्ति ठप होने से 280 मेगावाट बिजली सरेंडर भी करनी पड़ी. शुक्रवार को 950 मेगावाट (डीवीसी कमांड एरिया को छोड़कर) की मांग रही. जो आंधी-पानी के कारण आपूर्ति ठप होने से घटकर 670 मेगावाट हो गयी. इस कारण सभी अधिकांश जिलों में तीन से चार घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित रही.

इसे भी पढ़ें : पलामू : प्रेम-प्रसंग में अपहरण कर नवविवाहिता की हत्या, प्रेमी गिरफ्तार

राज्य के पावर प्लांट का उत्पादन रहा 170 मेगावाट

शुक्रवार को राज्य का एकमात्र पावर प्लांट टीवीएनएल से 170 मेगावाट बिजली का उत्पादन हुआ. निजी कंपनियों से 520 मेगावाट बिजली ली गयी. सेंट्रल एलोकेशन से 252 मेगावाट बिजली ली गयी. आधुनिक से 186, एसइआर से 30, आइइएक्स से 30, सीपीपी से 34 और इंलैंड पावर से 40 मेगावाट बिजली ली गयी.

इसे भी पढ़ें : डीवीसी के संविदा शिक्षकों और सप्लाई मजदूरों का नहीं हुआ भुगतान

आंधी-पानी से पहले 1029 मेगावाट की थी मांग

अपराह्न 3:15 से पहले प्रदेश में बिजली की मांग 1029 मेगावाट थी. इस समय टीवीएनएल से 196 मेगावाट, सीपीपी से 26, इंलैंड से 52, सेंट्रल एलोकेशन से 402, आधुनिक से 186, एसइआर से 48 और आइइएक्स से 119 मेगावाट बिजली मिल रही थी. लेकिन आंधी-पानी के कारण बिजली आपूर्ति ठप हो गयी और मांग घटकर 670 मेगावाट हो गयी.

इसे भी पढ़ें : नाला में मिला युवती का शव, दुष्‍कर्म के बाद हत्‍या की आशंका

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: