न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्कूल जाने के लिए रोज जान जोखिम में डाल रेलवे लाइन पार करते हैं 200 से ज्यादा बच्चे

चंदवा प्रखंड से गुजरने वाली रेलवे लाइन की दक्षिणी दिशा में सभी कॉलेज, स्कूल हैं. प्रखंड की आधी आबादी रेललाइन के उत्तर दिशा में बसी है.

935

Latehar : चंदवा प्रखंड से गुजरने वाली रेलवे लाइन की दक्षिणी दिशा में सभी कॉलेज, स्कूल हैं. प्रखंड की आधी आबादी रेललाइन के उत्तर दिशा में बसी है. बच्चों को रोज विद्यालय जाने के लिए जान जोखिम में डालकर रेलवे के पश्चिमी छोर से रेललाइन पार करना पड़ता है. 

छात्रा दीपांजली कुमारी, संगीता कुमारी, करिश्मा कुमारी, सानिया कुमारी, समु कुमारी, छात्र अमृत कुमार रवि, चंदन कुमार, आकाश कुमार, प्रीतम डे, प्रतीक डे, विवेक भेंगरा व अन्य ने बताया कि कभी-कभी मालगाड़ी के नीचे से भी निकलना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें : भाकपा माओवादी को सबसे ज्यादा लेवी झारखंड से, लालच में दूसरे राज्यों से आ रहे नक्सली

कई बार ट्रेन के नीचे से गुजरना पड़ता है

प्रखंड के प्लस टू हाइस्कूल, गर्ल्स हाइस्कूल, मिशन, मिडिल, पुस्तकालय व कई प्राइवेट स्कूलों के सैंकड़ों स्टूडेंट्स को रोज रेलवे लाइन क्रॉस करना पड़ता है. स्थिति तब और विकराल हो जाती है जब रेल ट्रैक पर कोई ट्रेन खड़ी रहती है. उस समय बच्चे व अभिभावक ट्रेन के नीचे से रेल लाइन पार करते हैं. ऐसे में कभी भी बच्चों के साथ अप्रिय घटना की आशंका बनी रहती है. कई बार तो परीक्षा छूट जाती है.

लाइन पर कई मालगाड़ियां खड़ी रहती हैं. स्कूल जाने व आने के समय कई एक्सप्रेस ट्रेनें गुजरती हैं. व्यस्त रेल मार्ग होने के कारण छात्र-छात्राओं की मुश्किलें काफी बढ़ी हुई होती हैं.

टोरी जंक्शन पर रेल लाइन पार करने के लिए कोई फ्लाईओवर नहीं है. बच्चों व अभिभावकों को रेल लाइन व ट्रेन के नीचे से होकर मजबूरी में जाना पड़ता है. एक फुट ओवरब्रिज है भी तो वो कारगर नहीं है. बाजारटांड़ से हाई स्कूल जाने वाले रास्ते में फुट ओवरब्रिज का निर्माण करने व वर्तमान फुट ब्रिज का विस्तार करने से थोड़ी राहत मिल सकती है.

इसे भी पढ़ें : ऑटो-वैन से बच्चों के स्कूल जाने पर लगाये गये प्रतिबंध को प्रशासन ने आठ शर्तों के साथ लिया वापस

SMILE

रोज 200 से अधिक बच्चे क्रॉस करते हैं लाइन

अभिभावक सबीता देवी, बिगनी देवी, बिगन राम, पुसा मुंडा ने बताया कि बच्चे जान जोखिम में डालकर स्कूल जा रहे हैं जो काफी गंभीर मसला है, अभिभावकों को भी काफी परेशानी हो रही है.

स्कूल के समय व छुट्टी के बाद बच्चों को लाइन पार कराने आना पड़ता है. प्रति दिन दो सौ से अधिक बच्चों को लाइन क्रॉस करना पड़ रहा है. फ्लाई ओवरब्रिज व फुटब्रिज नहीं होने से छात्र-छात्राओं के साथ-साथ लाखों आम लोग रेल क्रॉसिंग व रेल लाइन से प्रति दिन बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं. इस समस्या के समाधान के लिए सरकार को गंभीर होना चाहिए.

फ्लाईओवर निर्माण में विलंब के लिए सांसद जिम्मेदार : अयूब

माकपा के वरिष्ठ नेता अयुब खान ने कहा कि लाखों लोगों के लिए जन हितकारी टोरी में स्वीकृत फ्लाई ओवरब्रिज निर्माण में विलंम्ब के लिए चतरा के सांसद सुनील कुमार सिंह जिम्मेदार हैं. सांसद टोरी में स्वीकृत फ्लाई ओवरब्रिज के साथ हैं या खिलाफ हैं उन्हें यह स्पष्ट करना चाहिए, उनकी चुप्पी अफसोसनाक है.

इसे भी पढ़ें : न्यूज विंग की खबर पर BJP की प्रेस वार्ता, कहा- आदिवासियों को आगे कर मिशनरी संस्थाएं हड़प रही हैं जमीन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: