न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2008 असम बम धमाके में एनडीएफबी प्रमुख रंजन दैमारी समेत 10 को उम्रकैद

1,879

Guwahati: असम में 2008 में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोट मामले में एनडीएफबी के प्रमुख रंजन दैमारी तथा नौ अन्य आरोपियों को सीबीआई की अदालत ने उम्र कैद की सजा सुनाई है. ज्ञात हो कि 2008 में हुए सिलसिलेवार धमाके में 88 लोगों की मौत हो गई थी और 470 लोग घायल हुए थे. सोमवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने रंजन दैमारी और 14 अन्य को दोषी ठहराया था. मामले पर घटना के 10 साल से भी अधिक समय बाद फैसला आया है .

2008 में ब्लास्ट में हुई थी 88 लोगों की मौत

30 अक्टूबर, 2008 को गुवाहाटी और पश्चिमी असम के आस-पास के इलाकों में एक के बाद एक 11 बम धमाके हुए थे. इसमें 88 लोग मारे गए थे. जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. सीबीआई से पहले इस मामले की जांच असम पुलिस ने की थी. सीबीआई ने दो आरोपपत्र दायर करके 22 आरोपियों को नामजद किया था, जिसमें से सात अब भी फरार हैं.

पहला आरोपपत्र 2009 में दायर किया गया था . दूसरा आरोपपत्र 20 दिसंबर 2010 में दायर हुआ था. इस मामले की सुनवाई 2011 में शुरू हुई थी और फास्ट ट्रैक अदालत ने 2017 में इस मामले का जिम्मा संभाला था.

सुनवाई के दौरान, 650 गवाहों के बयान दर्ज किये गये थे. दैमारी को 2010 में बांग्लादेश में गिरफ्तार किया गया था और फिर उसे गुवाहाटी सेंट्रल जेल स्थानान्तरित किया गया था. उसे 2010 में सशर्त जमानत दी गई थी. अदालत ने दैमारी पर जनसभाओं और मीडिया में साक्षात्कारों पर पाबंदी सहित आठ शर्तें लगाई थीं. दैमारी को छोड़कर सभी अन्य न्यायिक हिरासत में हैं.

इसे भी पढ़ेंः आम चुनाव से पहले भारत में हो सकते हैं सांप्रदायिक दंगे- US इंटेलिजेंस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: