Crime News

एचईसी कर्मी से कुख्यात नक्सली कुंदन पाहन के नाम पर मांगी गयी लेवी, असामाजिक तत्वों का हाथ होने की आशंका

Ranchi: धुर्वा थाना क्षेत्र के रहनेवाले और एचईसी में काम करनेवाले नारायण टोप्पो से कुख्यात नक्सली कुंदन पाहन के नाम पर लेवी की मांग की गयी है. बता दें कि फोन करनेवाले ने शुक्रवार को एचईसी कर्मी नारायण टोप्पो को कॉल किया और कुंदन पाहन के नाम पर लेवी की मांग की. फोन आने के बाद नारायण टोप्पो का पूरा परिवार डरा हुआ है. नारायण टोप्पो ने इसकी शिकायत धुर्वा थाना की पुलिस को की. पुलिस मामले की गंभीरता को देखते हुए उक्त नंबर का डिटेल्स निकाल रही है, ताकि आरोपियों को जल्द से गिरफ्तार कर कांड का खुलासा किया जा सके.

इसे भी पढ़ें – कॉग्निजेंट और कर्मचारियों की कर सकती है छंटनी, नये लोगों की नहीं हो रही ज्वाइनिंग

असामाजिक तत्वों का हाथ होने की आशंका

इस मामले में पुलिस का कहना है कि नारायण टोप्पो से कुंदन पहन के नाम पर लेवी मांगने के पीछे असामाजिक तत्वों का हाथ हो सकता है, क्योंकि नारायण टोप्पो एचईसी में हाजिरी बनाने का भी काम करते हैं. इसी दौरान नारायण टोप्पो ने कुछ मजदूरों की हाजिरी काट दी थी. इससे आशंका जतायी जा रही है कि मजदूरों ने डराने के लिए ही इस तरह का कॉल नारायण टोप्पो को किया है. हालांकि पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है. मामले की जांच के बाद ही पूरी तरह से घटनाक्रम का पता चल पायेगा और इसके पीछे के आरोपी का भी पता चल पायेगा.

इसे भी पढ़ें – जानें आगामी विधानसभा चुनाव में आजसू का क्या होगा ?

सरेंडर करने के बाद जेल में बंद है कुंदन पाहन

14 मई 2017 को प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन भाकपा माओवादी के नक्सली कुंदन पाहन ने रांची पुलिस के समक्ष समर्पण कर दिया था. कुंदन पाहन लंबेस समय तक झारखंड पुलिस के लिए सिर दर्द और चुनौती बना हुआ था. उस पर 15 लाख इनाम घोषित था. समर्पण के बाद पुलिस ने कुंदन को 15 लाख का चेक सौंपा था. रांची में डीआइजी कार्यालय परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में कुंदन पाहन ने सरेंडर किया था. झारखंड सरकार की समर्पण और पुनर्वास नीति के तहत यह सरेंडर हुआ था. झारखंड रीजनल कमेटी के सचिव के रूप में माओवादी में कुंदन पाहन था. कुंदन पाहन पर पर बुंडू विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या, बुंडू डीएसपी प्रमोद कुमार समेत 6 पुलिसकर्मियों की हत्या, आइसीआइसीआइ बैंक के 5.5 करोड़ रुपये और एक किलो सोने की लूट, सांसद सुनील महतो की हत्या, पुलिस इंस्पेक्टर फ्रांसिस इंदवार की हत्या समेत कई मामलों में मुख्य रूप से शामिल होने के आरोप है.

इसे भी पढ़ें – चार साल में सीयूजे से 1080 स्टूडेंट्स ने की वोकेशल कोर्स की पढ़ाई, मात्र 218 को ही मिली नौकरी

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: