BokaroJharkhand

बोकारो के साहित्यकारों ने बुलंद की झारखंड में साहित्य अकादमी के गठन की मांग, सीएम को लिखा पत्र

Bokaro : झारखंड अलग राज्य गठन के दो दशक बीत जाने के बाद भी राज्य में भाषा एवं साहित्य के संवर्धन तथा संरक्षण के लिए साहित्य अकादमी का गठन नहीं हो पाया है. जिससे यहां के साहित्यकारों में निराशा है. इधर महागठबंधन की सरकार बनने के पश्चात यहां के साहित्यकार एक जुट होकर साहित्य अकादमी की मांग करने लगे हैं.

गौरतलब है कि बोकारो जिले के नावाडीह में झारखंड साहित्य अकादमी स्थापना संघर्ष समिति का गठन पिछले दिनों किया गया है.
इसके कार्यकारी अध्यक्ष शिरोमणि महतो बनाये गये हैं. इसके बैनर तले साहित्य अकादमी गठन की मांग लगातार उठ रही है.

इसे भी पढ़ें : News Wing Impact: एथलेटिक्स कोच मारिया खलखो को खिलाड़ी कल्याण सहायता कोष से मिलेगी मदद

इसके लिए मुख्य़मंत्री हेमंत सोरेन और अन्य संबंधित मंत्रियों व विभागों को पत्र लिखा गया है. खास तौर पर शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो से मुलाकात कर आग्रह किया गया है. उन्होंने शीघ्र ही इसे धरातल पर उतारने का आश्वासन दिया है.

अकादमी के लिए इन लोगों ने इस बैनर से आवाज उठायी है- जेब अख्तर, नीरज नीर, नीलोत्पल रमेश, प्रह्लाद चंद्र दास, अनिता रश्मि, आलोका कुजुर, अनिल किशोर सहाय, श्यामल बिहारी महतो, उमर चंद जायसवाल, राजेश पाठक, बासु बिहारी, महेश केसरी, पंकज शाह, सत्या शर्मा ‘कीर्ति’ ,सुभाष सिंह, संतोष पाल, सुजाता कुमारी, तारकेश्वर महतो गरीब, मणि मोहन महतो, प्रेमचंद ठाकुर, अजय यतीश,प्रभु दयाल बंजारे, राजेश दुबे, हरेंद्र कुमार, राजकुमार गीत, विनय कुमार शर्मा आदि.

माननीय अध्यक्ष शिरोमणि महतो (मास्टर) के मार्ग दर्शन में ये मुहिम चलायी जा रही है.

इसे भी पढ़ें : जहां किसानों की संख्या कम, वहां एमएसपी पर धान की बंपर खरीदारी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: