न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चेक लेकर देते हैं कोई सामान, तो हो जायें सावधान

चास में मोबाइल विक्रेता को लगा साढ़े 38 हजार का चूना

815

Bokaro : अगर आप दुकानदार हैं और चेक के जरिये राशि भुगतान से किसी को कोई सामान बेच रहे हैं, तो आपको सावधान हो जाने की जरूरत है. आपको पहले यह सत्यापित कर लेना होगा कि चेक क्या वास्तव में उसी ग्राहक का है या कहीं से ठगी के जरिये जुगाड़ का है. जब चेक ही संदिग्ध हो जाये, तो उसके भुगतान का क्या हाल होगा, इसका अंदाजा आप सहज ही लगा सकते हैं. ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि गुरुवार को ही चास का एक मोबाइल दुकानदार कुछ इसी तरह की ठगी का शिकार हो गया.

इसे भी पढ़ें- मुखिया से रिश्वत मांग बुरे फंसे राजनगर प्रखंड के इंजीनियर, लिपिक और पंचायत सेवक

क्या है मामला

silk_park

मेन रोड, चास में गीतांजलि इलेक्ट्रॉनिक्स गली स्थित शुभम कलेक्शन नामक मोबाइल दुकान के संचालक प्रवीण बोथरा को एस मुखर्जी के नाम से आये एक जालसाज ने साढ़े 38 हजार रुपये का चूना लगा दिया. इसका खुलासा शुक्रवार को भुक्तभोगी ने स्वयं थाने में दी गयी लिखित सूचना के बाद किया. उन्होंने बताया कि गुरुवार को खुद को बोकारो का एक एसबीआई अधिकारी बताते हुए एक शख्स उनकी दुकान पर आया. उसने अपना नाम एस मुखर्जी बताया. पहले तो अपनी गोल-मोल बातों से उसने दुकानदार प्रवीण को अपने प्रभाव में लिया. उसके बाद कहा कि पुरूलिया में उसके भाई की दुकान है, लेकिन यहां उसे चार-पांच लोगों में मोबाइल देने हैं और पुरूलिया का बिल नहीं चलेगा. बोकारो का बिल चाहिए. दुकानदार प्रवीण उसकी बातों में आ गये. वह मोबाइल देने को राजी हो गये और अपने डिस्ट्रीब्यूटर बंका एंटरप्राइजेज को भुगतेय चेक ही देने को कहा. अगले ने अपने तथाकथित भाई देवेंद्र मुखर्जी के पैन कार्ड की फोटो कापी के साथ 51,600 रुपये का एसबीआई का एक चेक (सं. 597567, दिनांक- 19.06.2018) उसे दिया. मेसर्स अभिरूप टेलीकॉम के खाते के उक्त चेक पर देवेंद्र मुखर्जी के नाम से हस्ताक्षर थे. खुद को बैंक अधिकारी बतानेवाला शख्स प्रवीण के पास से विवो का दो और कोमियो कंपनी का एक मोबाइल ले गया, जिनकी कुल कीमत 38,480 रुपये हुई. बाकी रकम के एवज में उसने शाम को आकर सेट कलेक्ट कर लेने की बात कही, क्योंकि उस वक्त प्रवीण की दुकान में मांग के मुताबिक तीन सेट ही मौजूद थे. प्रवीण ने अपने भाई गीतांजलि इलेक्ट्रॉनिक्स के मालिक सुरेश बोथरा को सारी बातें बतायीं. सुरेश ने तत्काल उन्हें दिये गये मोबाइल नंबर पर कॉल किया और उसे पुनः शाम को आने की बात कही, लेकिन बाद में उसका मोबाइल स्विच्ड ऑफ हो गया. बोथरा ने बताया कि उन्होंने एसबीआई, बोकारो में जाकर जब अभिरूप टेलीकॉम का विवरण लिया और संपर्क किया, तो उक्त नटवरलाल के एक और फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ. बताया गया कि वह व्यक्ति दो-तीन दिन पहले पुरूलिया में अभिरूप टेलीकॉम गया था. उसने वहां विवो मोबाइल की फ्रेंचाइजी खोलने को लेकर उसके यहां से कई जरूरी दस्तावेजों की प्रति और कुछ ब्लैंक चेक लिये थे. जब उसे पता चला कि उसका चेक यहां मोबाइल दुकान में देकर ठगी की गयी है, तो उसने भी आश्चर्य व्यक्त किया. समाचार लिखे जाने तक अगले दिन शुक्रवार शाम तक उक्त शख्स का कोई अता-पता नहीं चल सका था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: