JharkhandRanchi

#IndirectTax के विवाद निपटाने के लिए लीगेसी डिस्प्यूट रेसुलेशन स्कीम एक महत्वपूर्ण पहल : आकाश

Ranchi : टैक्स कलेक्शन में चार्टर्ड एकाउंटे्टस की भूमिका अहम होती है. ये व्यवसायियों और सरकार के बीच पुल का काम करते हैं.

उक्त बातें सेंट्रल जीएसटी रांची के असिस्टेंट कमिश्नर आकाश सिंगला ने कहीं. वे शनिवार को दी इंस्टीट्युट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया की ओर से आयोजित सेमिनार को संबोधित कर रहे थे. विषय था- लीगेसी डिस्प्यूट रेसुलेशन स्कीम 2019 और जीएसटी एनुअल रिटर्न.

सिंगला ने कहा कि सीए को अपने कर्तव्यों को समझना काफी जरूरी है. साथ ही जीएसटी और लीगेसी डिस्प्यूट रेसुलेशन स्कीम 2019 की सही जानकारी होना भी.

उन्होंने लीगेसी डिस्प्यूट रेसुलेशन स्कीम को अप्रत्यक्ष करों से सम्बंधित विवादों के निपटारे के लिए महत्वपूर्ण पहल बताया.

उन्होंने कहा- टैक्स के विवादों के कारण देश का विकास प्रभावित होता है, क्योंकि टैक्स विवाद सबसे अधिक उद्योगों के साथ पाये जाते हैं. जरूरी है कि इस स्कीम का लाभ व्यवसायियों को दिया जाये. इसके लिए चार्टर्ड एकाउंटेंट्स को प्रयास करना चाहिये.

इसे भी पढ़ें : फंडिंग होने के बाद भी राज्य में नहीं बांटे गये एक भी सोलर लालटेन, अब फिर दिया गया 18 हजार का ऑर्डर

कई पेंडिंग मामले एक साथ सुलझ जायेंगे

चार्टर्ड एकाउंटेंट आशु डालमिया ने कहा कि लीगेसी डिस्प्यूट रेसुलेशन से कई पेंडिंग मामले एक साथ सुलझ सकते हैं जिसमें सेंट्रल एक्साइज, सर्विस टैक्स और अन्य अप्रत्यक्ष कर से संबधित विवादों को एक साथ सुलझाया जा सकता है.

टैक्स के विवादों के कारण उद्योग-धंधों के विकास में काफी परेशानी होती है. ऐसे में काफी समय से पेंडिंग मामले एक साथ सुलझ सकते हैं.

उन्होंने कहा कि ऐसे विवादों के सुलझने के साथ ही चालीस से सत्तर प्रतिशत तक करों की बचत हो सकती है. इसके साथ ही करदाताओं को करों पर दिये जाने वाले ब्याज और पेनाल्टी से भी पूरी छूट मिलेगी.

इसे भी पढ़ें : बेरोजगारी क्यों न बनें चुनावी मुद्दा: पहले चरण के चुनाव वाले छह जिलों में हैं 39300 रजिस्टर्ड बेरोजगार

नया कोड ऑफ एथिक्स अप्रैल 2020 में लागू किया जा रहा

अन्य सीए जेपी शर्मा ने बताया कि चार्टर्ड एकाउंटेंट्स के लिए कोड ऑफ एथिक्स काफी महत्वपूर्ण होती है. साथ ही इससे कई जानकारियां भी मिलती हैं.

चार्टर्ड एकाउंटेंट्स संस्था ही ऐसी संस्था है जो प्रत्येक सीए में नजर भी रखती है और दोषी होने पर दंड देने का भी प्रावधान है.

कोड ऑफ एथिक्स के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि समय के साथ-साथ कोड ऑफ एथिक्स में बदलाव किये जातें हैं ताकि चार्टर्ड एकाउंटेंट्स की प्रतिष्ठा बनी रहे.

अप्रैल 2020 में नया कोड ऑफ एथिक्स लागू किया जायेगा जिसका अध्ययन किया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : #Jamshedpur : टाटा के फैसलों से छिनती गयी हजारों की रोजी-रोटी, मौन बने रहे सीएम रघुवर दास  

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: