न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

निराशा का राग छोड़ें, अर्थव्यवस्था में अवसरों को देखें: आरबीआइ गवर्नर

579

Mumbai: भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने सोमवार को माना कि इस समय घरेलू अर्थव्यवस्था की गति धीमी पड़ रही है. और इसके सामने आंतरिक तथा बाह्य दोनों स्तर पर कई चुनौतियां हैं.

लेकिन उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि लोगों को निराशा के राग में सुर से सुर मिलाने की जगह आगे के अवसरों को देखना चाहिए.

शक्तिकांत दास का यह वक्तव्य ऐसे समय आया है जबकि देश के कारोबार जगत के बड़े लोग हाल में बजट में उठाए गए कुछ कदमों को लेकर सरकार से नाखुश हैं. इनमें धनिकों और विदेशी पोर्टफालियो निवेशकों (एफपीआइ) पर आयकर अधिभार की दर में बढ़ोतरी भी शामिल है.

इसे भी पढ़ेंःआर्थिक मंदी की दस्तकः भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अगले पांच साल बेहद मुश्किल भरे हो सकते हैं

आयकर अधिभार बढ़ाए जाने के बाद से एफपीआइ ने शेयर/बांड बाजार में बिकवाली बढ़ा रखी है. इससे पांच जुलाई के बाद प्रमुख शेयर सूचकांक 13 प्रतिशत से अधिक गिर चुके हैं.

‘आगे के अवसरों पर दें ध्यान’

रिजर्व बैंक के गवर्नर दास ने यहां उद्योग मंडल फिक्की द्वारा आयोजित राष्ट्रीय बैंकिंग सम्मेलन में कहा, ‘अखबार पढ़कर या बिजनेस टीवी चैनल को देख कर मुझे लगता है कि (लोगों के) मन में पर्याप्त उत्साह और उमंग नहीं है.’

लोगों को समझना चाहिए कि अर्थव्यवस्था में चुनौतियां जरूर है. कुछ क्षेत्र विशेष से जुड़े मसले हैं और अनेक वैश्विक और बाहरी चुनौतियां हैं. उन्होंने कहा, ‘आज कुछ लोगों का मूड अस्तित्व की चिंता से भरा है तो कुछ सकारात्मक मूड में हैं. मेरा मानना है कि सोच की बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होती है. कृपया आगे के अवसरों की ओर देखिए. हम मानते हैं कि इस समय चुनौतियां और कठिनाइयां हैं. ये बाहर से भी है और अंदर से भी. लेकिन व्यक्ति को अवसरों को देखना चाहिए और उसका फायदा उठाना चाहिए.’

Related Posts

70-80 रुपये किलो पहुंचा प्याज, स्टॉक की सीमा तय करने पर विचार कर रही है सरकार

प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों में मानसून की भारी बारिश से आपूर्ति प्रभावित हुई है जिसकी वजह से इसकी कीमतों में उछाल आया है.  

इसे भी पढ़ेंःमंदी का असरः पिछले 20 सालों के सबसे खराब स्थिति में ऑटो सेक्टर, उबरने के लिए वाहनों पर भारी छूट

अर्थव्यवस्था में मूड की बड़ी भूमिका-दास

आरबीआइ प्रमुख ने कहा कि वह लोगों से यह नहीं कह रहे हैं कि वे हर हालत में चेहरे पर प्रसन्नता का भाव रखें और हर कठिनाई को हंस कर भुला दें. लेकिन वास्तविक अर्थव्यवस्था में मूड की बड़ी भूमिका होती है. चुनौतियों के बावजूद अर्थव्यवस्था में बहुत से अवसर मौजूद हैं.

दास ने कहा कि वित्तीय क्षेत्र, व्यावसायिक समुदाय, नीति नियंताओं और हम विनियामकों को मिलकर चुनौतियों का सामना करना चाहिए और भविष्य को अधिक आत्मविश्वास से देखना चाहिए.

गौरतलब है कि आरबीआइ ने अपनी पिछली नीतिगत समीक्षा बैठक के समय चालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि के अपने अनुमान को सात प्रतिशत से घटा कर 6.9 प्रतिशत कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंःमंदी के साइड इफैक्टः महिंद्रा एंड महिंद्रा ने 1500 अस्थायी कर्मचारियों को निकाला

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: