Lead NewsNational

घाटी छोड़ें वर्ना, मरने को रहो तैयार..’, आतंकियों की धमकी के बाद कश्मीरी पंडित कर्मियों को सुरक्षित जिलों में किया जाएगा ट्रांसफर!

Srinagar : फिल्म द कश्मीर फाइल्स में डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री ने कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों का कत्लेआम कर और धमका कर भगाने की 1990 की कड़वी सच्चाई को दिखा कर उसे चर्चा के केंद्र में ला दिया था. जम्मू कश्मीर से 370 हटने और राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद वहां आतंकियों के विरुद्ध चलाये गये अभियान में कई हार्डकोर आतंकी मारे गये हैं. इन घटनाओं से बौखलाये आतंकियों ने एक बार फिर से घाटी में गैर- मुस्लिमों को टारगेट कर मारने का सिलसिला शुरू किया है ताकि हत्याओं के भय से बचे-खुचे हिंदू घाटी छोड़ कर भाग जाये.
अभी हाल में कश्मीर में राहुल भट्ट की हत्या के बाद एक बार फिर से कश्मीरी पंडित डरे हुए हैं. आतंकियों ने कश्मीरी पंडितों को घाटी छोड़ने को कहा है. वहीं बीजेपी का भी कहना है कि घाटी में आतंकियों की ओर से लगातार हो रही हिंदुओं की हत्याओं के बाद कश्मीरी पंडितों में ‘असुरक्षा’ की भावना बढ़ गई है.

जम्मू-कश्मीर बीजेपी के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से मुलाकात के बाद कहा कि अगर कश्मीरी पंडित कर्मचारी घाटी छोड़ते हैं तो ये ‘भयावह कदम’ होगा.

इसे भी पढ़ें:IAS पूजा सिंघल और सीए सुमन की रिमांड चार दिनों के लिए बढ़ी

Catalyst IAS
SIP abacus

कश्मीरी पंडितों ने सुरक्षा को लेकर किया प्रदर्शन

MDLM
Sanjeevani

12 मई को जम्मू-कश्मीर के बड़गाम में एक तहसील दफ्तर के अंदर घुसकर आतंकियों ने राजस्व अधिकारी राहुल भट्ट की हत्या कर दी थी. राहुल भट्ट की हत्या के बाद कश्मीरी पंडितों ने अपनी सुरक्षा को लेकर प्रदर्शन किया. इन प्रदर्शनों के दौरान सरकार विरोधी नारे भी लगे. इन प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए. बीजेपी ने प्रदर्शन कर रहे कश्मीरी पंडितों पर बल प्रयोग करने की आलोचना की है.

इसे भी पढ़ें:आम और खास के बीच चर्चा का बाजार गरम, आखिर 17 मई को क्या होगा?

LG सिन्हा का अहम ऐलान

राहुल भट्ट की हत्या के बाद कश्मीरी पंडित कर्मचारी दूसरी जगह ट्रांसफर करने की मांग कर रहे हैं. इसी बीच उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने ऐलान किया है कि सभी कश्मीरी पंडित कर्मचारियों को जिला और तहसील हेडक्वार्टर में तैनात किया जाएगा.

कश्मीरी पंडितों को आतंकियों की खुली धमकी

इसी बीच आतंकी संगठन लश्कर-ए-इस्लाम ने कश्मीरी पंडितों को खुलेआम धमकी दी है. लश्कर-ए-इस्लाम ने धमकाते हुए कहा है कि कश्मीरी पंडित या तो घाटी छोड़ दें या फिर मरने के लिए तैयार रहें. आतंकी संगठन ने पोस्टर में लिखा, ‘सभी प्रवासी और आरएसएस के एजेंट घाटी छोड़ दो या मरने के लिए तैयार रहो.

ऐसे कश्मीरी पंडित जो कश्मीर में एक और इजरायल चाहते हैं और कश्मीरी मुस्लिमों को मारना चाहते हैं, उनके लिए यहां कोई जगह नहीं है. अपनी सुरक्षा दोहरी या तिहरी कर लो, टारगेट किलिंग के लिए तैयार रहो. तुम मरोगे.’

इसे भी पढ़ें:झारखंड : सबूत के साथ हाईकोर्ट के अधिवक्ता ने ED को लिखा पत्र, कहा-दुमका में हो रहे अवैध पत्थर माइनिंग पर करें कार्रवाई

आतंकी 1990 जैसी दहशत और खौफ पैदा करना चाहते

जम्मू-कश्मीर बीजेपी अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कहा कि कश्मीरी पंडित, हिंदू और सिख जैसे सभी अल्पसंख्यक यहां कश्मीरियों की सेवा कर रहे हैं, वो और किसी काम में शामिल नहीं हैं. न उनके पास हथियार हैं. उनको मारकर, आतंकी 1990 जैसी दहशत और खौफ पैदा करना चाहते हैं. उन्हें कामयाब न होने दें. हालांकि, रैना ने ये भी कहा कि 1990 की गलती दोबारा नहीं होगी.

2010-11 में राहुल भट्ट को मिली थी नौकरी

1990 के दशक में आतंकियों के डर से कश्मीरी पंडितों ने घाटी छोड़ दी थी. कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए सरकार ने 2008 में पैकेज का ऐलान किया था, जिसके तहत कश्मीरी पंडितों को घाटी में सरकारी नौकरी दी जा रही थी. इसी रोजगार पैकेज के तहत 2010-11 में राहुल भट्ट को नौकरी मिली थी. उनकी अब आतंकियों ने हत्या कर दी.

इसे भी पढ़ें:झारखंड सरकार पर भड़की भाजपा, कहा- रघुवर दास की गिरफ्तारी को तैयार नहीं होने पर पुलिस पदाधिकारियों का किया तबादला

Related Articles

Back to top button