न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सपा सांसद आजम खान के जौहर विश्वविद्यालय को आवंटित 150 बीघा जमीन का पट्टा रद्द

यूपी में जब सपा सरकार थी, तो साल 2013 में आजम खान ने उस जमीन का लैंड यूज बदलवा दिया और सरकारी अनुदान में दी जाने वाली जमीन में शामिल करा दिया था.

98

NewDelhi : योगी सरकार ने सपा नेता और रामपुर सांसद आजम खान  के जौहर ट्रस्ट को लीज पर दी गयी 7.135 हेक्टेयर(150 बीघा लगभग) जमीन का पट्टा रद्द  कर दिया है. पट्टा रद्द  किये जाने की कार्रवाई एसडीएम सदर कोर्ट द्वारा की गयी है.   सरकारी अधिवक्ता अजय तिवारी के अनुसार  यह  जमीन  प्रशासन द्वारा मोहम्मद जौहर अली ट्रस्ट के संयुक्त सचिव नसीर खान को 24 जून 2013 को गवर्नमेंट ग्रांट एक्ट के तहत पट्टे पर दी गयी थी. पट्टा 30 साल के लिए हुआ था जबकि इस जमीन की मूल श्रेणी रेत में दर्ज थी. चूंकि रेत की जमीन का पट्टा नहीं होना चाहिए था, लेकिन  पट्टा  बनाया गया.

2013 में आजम खान ने जमीन का लैंड यूज बदलवा दिया

खबरों के अनुसार  इस संबंध में जब तहसीलदार द्वारा रिपोर्ट दी गयी,, तो उपजिलाधिकारी सदर ने इस जमीन की मूल श्रेणी यानी रेत में दर्ज करने के आदेश जारी किया.  इसके तहत  पट्टा निरस्त कर दिया गया.  जान लें कि यूपी में जब सपा सरकार थी, तो साल 2013 में आजम खान ने उस जमीन का लैंड यूज बदलवा दिया और सरकारी अनुदान में दी जाने वाली जमीन में शामिल करा दिया था.

जब योगी सरकार आयी तो  आजम खान के खिलाफ तमाम तरह की जांच पड़ताल शुरु हुई . राजस्व विभाग ने इस जमीन की जांच कर कहा कि नदी के किनारे रेत की जमीन पट्टे पर देना गैर कानूनी है. इसलिए इसका पट्टा निरस्त किया जाता है. अब अगर आजम खान को फैसले के खिलाफ किसी बड़ी जमीन से राहत नहीं मिलती है तो उनको इस जमीन से हाथ धोना पड़ जायेगा.

से भी पढ़ेंःतीन साल में 23 गुना रिटर्न देने का दावा कर लोगों से पैसे इन्वेस्ट करा रहा झारखंड सरकार से MoU करने वाला SkyWay Group

जौहर विश्वविद्यालय के नाम पर  निर्दोष लोगों  को विस्थापित किया गया

समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान के खिलाफ वक्फ और सरकार की संपत्तियों पर अतिक्रमण के आरोपों पर  उत्तर प्रदेश सरकार काफी दिनों से जांच  करा रही है.  2017 में तत्कालीन राज्यपाल राम नाईक को भेजे पत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि आजम के खिलाफ आरोपों को लेकर  संबद्ध विभाग उचित कार्रवाई कर रहे हैं. उन्होंने पत्र में कहा, हमें पूर्व मंत्री आजम खान द्वारा वक्फ और सरकार  की संपत्तियों पर अतिक्रमण तथा सरकारी धन के दुरुपयोग के आरोपों को लेकर आपका पत्र मिला है.

संबद्ध विभाग इस सिलसिले में उचित कार्रवाई कर रहे हैं. इससे पहले रामपुर से वरिष्ठ कांग्रेस नेता फैसल खान लाला   लाला ने राज्यपाल को भेजे पत्र में 14 आरोप लगाये हैं, जिनमें से एक आरोप है कि  कि आजम खान ने रामपुर में जौहर विश्वविद्यालय के नाम पर भूमि अतिक्रमण करने के लिए  कई  निर्दोष लोगों को अवैध रूप से जमीन से विस्थापित कर दिया.

इसे भी पढ़ेंःविवादित बयान पर आजम खां को रमा देवी से मांगनी होगी माफी, नहीं तो कार्रवाई संभव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like