न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जानें तुलसी और करी पत्ते के फायदे, कई बीमारियों में है रामबाण

कई प्रकार के पकवानों को सुगंधित बनाने के लिए किया जाता है.

251

NW Desk : आपको जान कर हैरानी होगी की करी का पेड़ साल भर हर भरा रहता है. यह नीचे झुका हुआ संतरे की नस्ल का पेड़ होता है. इसकी पत्तियों को ही करी पत्ते के नाम से जाना जाता है. जिसमें किओनिजिन नाम का ग्लूकोसाइड पाया जाता है. इसका स्वाद भले ही कड़वा होता है लेकिन यह सुगंधित होता है. भारतीय घरों में इसका उपयोग कई प्रकार के पकवानों को सुगंधित बनाने के लिए किया जाता है.

भारत और श्रीलंका में करी के पेड़ अधिकांश मात्रा में पाए जाते है. दक्षिण भारत में सदियों से करी पत्ते का इस्तेमाल किया जाता है. सब्जियों में प्राकृतिक सुगंध देने तथा हरा धनिया, कच्चे नारियल और टमाटर के साथ इसकी पत्तियों को मिलाकर स्वादिष्ट चटनी बनाने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है. करी के पत्ते, छाल एवं जड़ का उपयोग हमेशा देशी दवाइयों में टॉनिक, Stimulant और एंटीफ्लेटूलेंट के रूप में भी किया जाता है.

इसे भी पढ़ें : स्तन कैंसर नहीं है लाइलाज, सावधानी बरतने से हो सकता है बचाव

तुलसी भी कई समस्याओं के लिए है रामबाण 

घरेलू नुस्खे के इस्तेमाल से कई प्रकार की बीमारियों को किया जा सकता है. पीढि़यों से चले आ रहे ये नुस्खे हमेशा से फायदेमंद साबित हुए है. ये आगे भी होते रहेंगे.

ऐसे ही कुछ टिप्स तुलसी के पत्ते को लेकर भी है. तुलसी एक ऐसा पौधा है जो कई समस्याओं को आसानी से दूर कर सकता है. सर्दी जुकाम हो या सिरदर्द तुलसी का काढ़ा बनाकर पीने से जल्द ही लाभ मिलता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तुलसी के पत्तों को अगर दूध के साथ मिला कर पिया जाये तो ये कई बीमारियों के लिए रामबाण साबित हो सकती है. तुलसी के तीन से चार पत्तियों को उबलते हुए दूध में डालकर खाली पेट पीने से सेहतमंद रहा जा सकता हैं.

इसे भी पढ़ें : शादी के बाद युवतियां क्यों हो जाती हैं मोटी

पथरी की समस्याओं का समाधान

यदि पहले दौर में आपको पता चलता है कि किडनी में पथरी की समस्या हो गई हो तो तुलसी वाला दूध का सेवन सुबह खाली पेट करना शुरू चाहिए. इस उपाय से कुछ ही दिनों में किडनी की पथरी गलकर निकल जाएगी. आपको इस समस्या से छुटकारा मिल जाएगा.

इसे भी पढ़ें : एसी का ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपकी सेहत के लिए खतरनाक, हो जाइए सावधान

दिल की बिमारी में बहुत ही लाभदायक है तुलसी

यदि किसी को दिल से सबंधित कोई बीमारी है या हार्ट अटैक पड़ा हो. इसके लिए रोगी को तुलसी वाला दूध सुबह के समय खाली पेट पिलाएं. इससे दिल से संबंधित कई रोग ठीक हो सकते हैं. सांस की खतरनाक समस्या है दमॉ में इंसान को सांस लेने में बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता है. खासतौर पर तब जब मौसम में बदलाव होता है. इस समस्या से बचने के लिए दूध और तुलसी का सेवन करना जरूरी हो जाता है. इसे नियमित करने से सांस से संबंधित अन्य रोग भी ठीक होने लगते हैं.

इसे भी पढ़ें : प्‍यार करने से बढ़ता है वजन: रिसर्च

कैंसर में भी उपयोगी

एंटीबायोटिक गुणों से लेस तुलसी कैंसर से लड़ने में भी सक्षम साबित हुई है. दूध में भी कई तरह के गुण होने से जब दोनों आपस में मिल जाते हैं. तो इसका प्रभाव बेहद प्रभावशाली और रोग नाशक हो जाता है. यदि आप नियमित तुलसी वाला दूध पीते हैं तो कैंसर जैसी बीमारी शरीर आपके नजदीक नहीं आ सकती है.

इसे भी पढ़ें : हर उम्र की महिलाओं के लिए खुले सबरीमाला मंदिर के दरवाजे, SC ने हटाई रोक

तनाव ग्रस्त होने पर तुलसी बनता है साथी

अधिक समय काम करने से या ज्यादा जिम्मेदारियों के कारण अक्सर लोग टेंशन में रहते हैं. अधिक टेंशन के कारण नर्वस सिस्टम काम नहीं करने लगता है. यदि इस तरह की समस्या से परेशान होने पर दूध व तुलसी वाला नुस्खा जरूर अपनाएं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: