HEALTH

#CoronaVirus क्या है, यह कितना खतरनाक है और इससे कैसे बचें, जानें विस्तार से…

विज्ञापन

News Wing Desk

पिछले दो महीने से पूरी दुनिया को हिला कर रखनेवाला कोरोना वायरस आखिर है क्या, इसका इलाज क्या है और बचाव के क्या साधन हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन, पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड और नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) से प्राप्त सूचना के आधार पर कोरोना वायरस से बचाव के तरीके पर हम विस्तार से चर्चा कर रहे हैं.

advt

कोरोना वायरस अब चीन में उतनी तेज़ी से नहीं बढ़ रहा जितना दूसरे देशों में फैल रहा है. ये वायरस अब तक 60 से ज़्यादा देशों में फैल चुका है. इसलिए यह जरूरी है कि इसे फैलने से रोकने के लिए जितने उपाय हैं उनका सख्ती से पालन हो.

भारत के भी कई राज्यों में इसके मामले सामने आये हैं. दिल्ली, नोएडा, आगरा और तेलंगाना में भी इसके कई मामले सामने आये हैं. भारत सरकार के स्वास्थ्य इस संक्रमण के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके.

संक्रमण से कैसे बचें

अभी तक ये पूरी तरह से पता नहीं चल सका है कि कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में कैसे फैलता है. हालांकि, इससे मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं.  इसलिए आप ख़तरे को कम करने के लिए इन बातों का ध्यान रख सकते हैं-

adv

 

क्या करें

बार-बार हाथ धोयें

अपने हाथ अच्छी तरह से और बार-बार धोयें. हाथ धोने के लिए अच्छे साबुन का इस्तेमाल करें. साथ ही किसी अच्छे हैंड सैनिटाइजर का भी प्रयोग कर सकते हैं. ऐसा क्यों – हाथ अच्छे से धोने से यदि कोई वायरस हुआ तो वह खत्म हो जायेगा.

दूरी बना कर रखें

यदि किसी को सर्दी या खांसी है तो उस व्यक्ति से कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी बना कर रखें. क्यों? जब कोई व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उसके छोटे-छोटे कण नाक और मुंह से निकलते हैं जिसमें वायरस हो सकते हैं. यदि आप ज्यादा नजदीक रहेंगे तो आपकी सांस के साथ वायरस आपमें भी प्रवेश कर सकता है.

खांसते या छींकते समय क्या करें

यदि आपको सर्दी या खांसी है तो छींकते या खांसते वक्त टिश्यू पेपर, या अपनी कोहनी के कपड़ों को मुंह पर रखें. इस्तेमाल किये गये टिश्यू पेपर को तुरंत किसी सुरक्षित जगह पर फेंक दें. हाथ साफ़ न हों तो आंखों, नाक और मुंह को छूने बचें.

खानपान में सावधानी

बीमार जानवर या मृत जानवर के मांस को न खायें. मांस काटने और दूसरे अन्य कामों के लिए अलग-अलग चाकू का इस्तेमाल करें. खाना पकाने के वक्त हाथ बार-बार धोयें. मांस खाना सुरक्षित है, जरूरी यह है कि उसे अच्छी तरह से पकाया गया हो और स्वच्छ तरीके से लाया गया हो.

यात्रा के दौरान सावधानियां

यदि आपको बुखार, सर्दी या खांसी है तो यात्रा करने से बचें.

यात्रा के दौरान उस व्यक्ति से बचें जिसे सर्दी या खांसी हो. अपने पास हैंड सैनिटाइजर रखें जिसका इस्तेमाल करते रहें. आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें.

छींकते-खांसते वक्त टिश्यू पेपर जरूर रखें. यदि आपने सिंगल यूज मास्क लगाया है तो उसे इस्तेमाल के बाद किसी सुरक्षित जगह पर फेंके और हाथ अच्छी तरह धो लें.

यदि आप यात्रा के दौरान बीमार हो जाते हैं तो क्रू मेंबर को बतायें और अपनी बीमारी का इतिहास भी बतायें.

यात्रा के दौरान सिर्फ अच्छी तरह से पका हुआ भोजन ही खायें. किसी भी सार्वजनिक स्थान पर नहीं थूकें. किसी भी बीमार जानवर के संपर्क में नहीं आयें.

सर्दी या बुखार होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जायें

यदि आपको बुखार हो, सर्दी या खांसी तो तपरंत डॉक्टर से संपर्क करें. यदि आप अच्छा नहीं महसूस कर रहे हों, तो घर पर ही रहें. यदि आपको सांस लेने में परेशानी हो रही हो तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें.

इस तरह के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि कोरोना वायरस पार्सल, चिट्टियों या खाने के ज़रिए फैलता है. कोरोना वायरस जैसे वायरस शरीर के बाहर बहुत ज़्यादा समय तक ज़िंदा नहीं रह सकते.

कितना खतरा

ब्रिटेन में चीफ़ मेडिकल ऑफ़िसर्स ने सार्वजनिक ख़तरे के स्तर को कम से मध्यम कर दिया है. लेकिन, एनएचएस का कहना है कि व्यक्तिगत तौर पर जोख़िम कम है.

हालांकि, कुछ ऐसे देश हैं जहां पर कोरोना वायरस से ग्रस्त व्यक्ति के संपर्क में आने की ज़्यादा आशंका है. इसलिए ब्रिटेन में चीन, इटली और ईरान से वापस आये लोगों के लिए ख़ास सलाह ज़ारी की गयी है.

अगर आप इससे संक्रमित हो जाते हैं तो हल्के-फुल्के लक्षण सामने आयेंगे. आप इसके संक्रमण से उबर भी सकते हैं.

वैज्ञानिकों का मानना है कि बीमारी से होनेवाली मौतों की दर कम है. यह 1 से 2 प्रतिशत के बीच है. यह भी पता चला है कि जिनकी मौत हुई, वो या तो उम्रदराज़ थे या उन्हें पहले से ही कोई बीमारी थी.

लेकिन, ध्यान देने वाली बात यह है कि वायरस के शुरुआती स्तर के मामलों और हल्के-फुल्के लक्षणोंवाले मामलों को अभी गिना नहीं गया है. इसलिए संक्रमति मामलों की सामने आयी संख्या पूरी तरह भरोसेमंद नहीं कही जा सकती.

क्या हैं लक्षण

इस कोरोनावायरस (कोवाइड-19) में पहले बुख़ार होता है, इसके बाद सूखी खांसी होती है और फिर एक हफ़्ते बाद सांस लेने में परेशानी होने लगती है.

हालांकि, इन लक्षणों का मतलब ये नहीं है कि आपको कोरोना वायरस का संक्रमण है.

कुछ और वायरस में भी इसी तरह के लक्षण पाये जाते हैं जैसे ज़ुकाम और फ्लू में.

इसे भी पढ़ें – धनबाद में मिला #Corona का संदिग्ध, वायरस से संक्रमित होने की आशंका, रांची रेफर

खुद को अकेले कैसे रखें

अगर आप संक्रमित इलाक़े से आये हैं या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे हैं तो आपको अकेले रहने की सलाह दी जा सकती है. ऐसे में ये तरीके अपनायें –

  • घर पर रहें
  • ऑफ़िस, स्कूल या सार्वजनिक जगहों पर न जायें
  • सार्वजनिक वाहन जैसे बस, ट्रेन, ऑटो या टैक्सी से यात्रा न करें
  • घर में मेहमानों को न बुलायें
  • कोशिश करें कि घर का सामान किसी और से मंगायें
  • अगर आप और भी लोगों के साथ रह रहे हैं तो ज़्यादा सतर्कता बरतें. अलग कमरे में रहें और साझा रसोई व बाथरूम को लगातार साफ़ करें
  • 14 दिनों तक ऐसा करते रहें ताकि संक्रमण का ख़तरा कम हो सके

कोरोना वायरस से संक्रमित पाये जायें तो...

वर्तमान में कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है लेकिन इसमें बीमारी के लक्षण कम होने वाली दवाइयां दी जा सकती हैं.

जब तक आप ठीक न हो जायें, तब तक आपको दूसरों से अलग रहना होगा.

कोरोना वायरस के इलाज़ के लिए वैक्सीन विकसित करने पर काम चल रहा है. उम्मीद है कि साल के अंत तक इंसानों पर इसका परीक्षण कर लिया जायेगा.

कुछ अस्पताल एंटी-वायरल दवाओं का भी परीक्षण कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – #Corona_Virus : स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, अस्पतालों में तैयारियों की जानकारी दी

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close