HEALTH

जानें बुखार को कम करने के घरेलू उपाय…..

NW Desk : जब आपके शरीर में संक्रमण से लड़ने की ताकत कमजोर पडने लगे. तब वह बुखार (Fever)  के जीवाणुओं की चपेट में आने लगता है. शरीर में संक्रमण और वायरस का असर बढ़ने लगता है. तब बुखार में शरीर का तापमान बढ़ने लगता है. बुखार आना सामान्य बात है. जो किसी को, कभी भी हो सकती है, फिर चाहे वो कोई बड़ा हो या बच्चा. बुखार आने का कारण एलर्जी, गर्मी, सर्दियों और बैक्टीरिया के संपर्क में आने से होता है. हर मौसम में अपने शरीर को संक्रमण से बचाने के लिए अपना ध्यान रखना पड़ेगा. तो चलिए हम आपको बताते हैं कि कैसे आप खुद को बुखार की चपेट में आने से बचा सकें.

बुखार में सरसों का तेल बहुत फायदेमंद माना जाता है. सरसों तेल की तासीर गर्म होती है.

इसे भी पढ़ें : नोटबंदी : दूसरी सालगिराह पर पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा- तबाही का असर अब स्पष्ट हो चुका है

सरसों तेल के इस्तेमाल का तरीका

दो चम्मच सरसों तेल को गर्म करें. उसमें लहसुन कि दो चार कली डालकर तेल को फिर गर्म होने दें. उसे नीचे उतार लें. फिर तेल को शरीर और हाथों व पैरों के तलवे पर लगाएं. इससे आपके शरीर का दर्द कम होने लगेगा. आपके शरीर का तापमान भी कम कर होने लगता हैं.

प्याज भी है फायदेमंद

प्याज खाने के स्वाद में चार चांद तो लगा ही देता है. लेकिन प्याज बुखार के तापमान को भी कम करने में मदद करता है.

प्याज को पहले छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर फिर पीस लें. उसके बाद पैरों पर प्याज के टुकड़ों को लगाएं इससे बुखार का तापमान कम होने लगते हैं.

इसे भी पढ़ें :  आठ नवंबर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया नोटबंदी का ऐलान

भीगा हुआ तौलिया

बुखार के तापमान को कम करने के लिए गीले तौलिए का इस्तेमाल भी बहुत लाभकारी माना जाता है. कॉटन के तौलिये को ठंडे पानी से गीला कर लें फिर तौलिए को निचोड़ कर गर्दन के चारों तरफ लपेंट लें. इससे आपके शरीर का तापमान कम होने लगेगा. आपको बुखार से राहत मिलने लगेगा.

अदरक भी होता है फायदेमंद

माना जाता है कि अदरक में कई बीमारियों को ठीक करने की क्षमता पायी जाती है. अदरक में एंटीऑक्सीडेंट के गुण होती है.
अदरक के पाउडर को गर्म पानी में मिलाएं फिर उस पानी से बीमार व्यक्ति को नहलाएं. इससे शरीर का तापमान कम होने लगेगा. बुखार को दूर करने में मदद भी करता है.

इसे भी पढ़ें :  दिल्ली में गुरुवार को हवा की गुणवत्ता खराब श्रेणी में रहने का अनुमान

नींबू और शहद भी जरुरी

नींबू में विटामिन सी पाया जाता है जो शरीर को संक्रमण से बचाने में मदद करता है. शहद में भी कई पोषण तत्व पाएं जाते है जो शरीर को मजबूत करता है.

एक चम्मच शहद और एक चम्मच नींबू का रस मिलाएं रोगी को खिलाएं. बुखार का तापमान कम होने लगता है.

तुलसी का पत्ता 

तुलसी पत्ती में कई औषधीय गुण होते हैं. तुलसी में एंटीबायोटिक गुण भी पाये जाते हैं. यह बैक्टीरिया से बचाने में मदद करता है.

तुलसी का काढा या (तुलसी चाय) तुलसी की पत्तीयों को लेकर पानी में उबालें. उसमें आधा चम्मच लौंग पाउडर डाल लें. ठंडा होने के बाद रोगी को पिला दें. इससे बुखार को कम करने में आसानी होगी है.

इसे भी पढ़ें :  योगी आदित्यनाथ ने कहा – अब फैजाबाद नहीं अयोध्या कहलायेगा जिला, एयरपोर्ट भगवान राम के नाम पर

नारियल तेल भी महत्वपूर्ण

नारियल तेल में जीवाणुरोधी और एंटीवायरल ( antiviral) गुण पाए जाते हैं. जो बुखार के जीवाणुओं से लड़ने में मदद करता है. नारियल तेल से रोगी का खाना बनाएं. नारियल तेल से पका खाना रोगी के लिए फायदेमंद होता है.

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close