JharkhandLatehar

लातेहार : ग्रामीणों ने जब्त ट्रैक्टरों को छुड़ाया, सड़क जाम कर वन विभाग के खिलाफ जताया रोष

विज्ञापन

Latehar : लातेहार जिले के सरयू प्रखंड में ग्रामीणों ने रविवार को सरयू-कोटाम-गारू मार्ग पर वन विभाग के कब्जे से तीन ट्रैक्टरों को जबरन छुड़ा लिया. जानकारी के अनुसार वन विभाग के अधिकारी लाई गांव के पास चोपत नदी से वन भूमि से बालू उठाव करने के आरोप में तीन ट्रैक्टरों को जब्त कर लातेहार ले जा रहे थे.

बाद में वन विभाग की कार्रवाई से आक्रोशित ग्रामीणों में स्थानीय जन प्रतिनिधियों के नेतृत्व में सरयू चौक को जाम कर दिया. उन्होंने वन विभाग की कार्रवाई को अनुचित ठहराया और कहा कि वन विभाग अपने निर्माण कार्यों के लिए बालू उठाव करता है, जबकि गरीबों के आवास और शौचालय निर्माण के लिए बालू ले जाने पर कार्रवाई करता है. उन्होंने वन अधिकारियों के दल को भी आगे बढ़ने से रोक दिया.

इसे भी पढ़ेंः राहत :  झारखंड में कोरोना संक्रमण के मामले में आयी कमी, रिकवरी रेट 80 फीसदी के आसपास

advt

दो घंटों के बाद जाम हटवाया

बाद में वन विभाग के अधिकारियों की सूचना देने पर गारू के बीडीओ प्रवीण केरकेट्टा और थानेदार आलोक दुबे मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से वार्ता कर लगभग दो घंटों के बाद जाम हटवाया. अधिकारियों ने ग्रामीणों और जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया कि छुड़ाई गई गाड़ियों को वन विभाग के कार्यालय में सौंप दें. न्यूनतम जुर्माना लगाकर गाड़ियों को छोड़ दिया जाएगा.

प्रशासन के दोहरे बर्ताव का आरोप

मुखिया ने पूछा कि रेंजर के भवन का निर्माण कहां के बालू से किया गया तो किसी ने जवाब नहीं दिया. सरयू की चोरहा पंचायत की मुखिया तारामणि देवी ने कहा कि लातेहार के डीएफओ आए और खाली गाड़ी पकड़ कर ले जाने लगे. मैंने उनसे कहा कि पीएम आवास और शौचालय निर्माण के लिए बालू जा रहा था.

जिसे बनाने का प्रेशर है. उन्होंने इस बात को मानने से इन्कार कर दिया. मेरा कहना है कि रेंज के भवन का निर्माण कहां के बालू से किया गया? मुखिया ने कहा कि वन विभाग अपने कार्यों के लिए जंगलों का दोहन करे किन्तु पंचायत में सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए बालू लाने पर खाली ट्रेक्टर को पकड़ कर ले जाए, ये कहां का न्याय है.

इसे भी पढ़ेंः 50 करोड़ की दवा सड़ने के मामले में दर्ज होगा PE, सीएम ने दी अनुमति

adv

कानूनी कार्रवाई होगी

मुखिया ने कहा कि बालू उठाव का टेंडर करा दिया जाए या फिर सभी के लिए बालू उठाव पर रोक लगाई जाए. मामले के बावत रेंजर ने कहा कि ट्रैक्टर मालिक भीड़ जमा कर जबरन गाड़ियों को छुड़ा ले गए. वहीं लातेहार के रेंज अफसर संजय कुमार ने कहा कि दौरे पर आए डीएफओ साहब ने देखा कि जंगल के रास्ते से जाकर ट्रैक्टर चोपत नदी से वन भूमि से बालू का उठाव कर रहा है. उन्होंने मना किया और हमें सूचना दी.

हमारे द्वारा ट्रैक्टर जब्त कर ले जाने के क्रम में सरयू में ट्रैक्टर मालिक भीड़ इकठ्ठा कर ट्रैक्टर जबरन छीन करके ले गए. सरकारी काम में बाधा पहुंचाई. वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि खाली ट्रैक्टर पकड़े गए थे. रेंजर ने बताया कि ट्रैक्टर में बालू लोड था जिसे हाइड्रोलिक से गिरा दिया गया. रेंजर ने बताया कि यह एक बहुत ही शर्मनाक घटना है. इस मामले में वन अधिनियम की धाराओं मुकदमा करेंगे. साथ ही अन्य क़ानूनी प्रक्रिया भी पूरी की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः सैम्फॉर्ड अस्पताल पर आरोप: 36 घंटे के ईलाज का बिल 4.60 लाख, रेफर करने कहा तो बताया मृत

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button