JharkhandPalamu

Latehar : फसल नष्ट कर रहा था हाथियों का झुंड, ग्रामीणों ने खदेड़ा तो गड्ढे में गिरा हाथी का बच्चा, चिंघाड़ से पूरी रात दहशत में रहे ग्रामीण

Latehar : लातेहार जिले के बालूमाथ के बिशुनपुर गांव में ग्रामीणों को बुधवार की रात दहशत में बितानी पड़ी. गांव में हाथियों का झुंड घुस आया था और फसलों को नष्ट कर रहा था. जब ग्रामीणों ने उन्हें खदेड़ा तो हाथी का एक बच्चा पानी से भरे छह से सात फीट गहरे गड्ढे में गिर गया. हालांकि हाथी उसे दो घंटे की मशक्कत के बाद निकाल कर ले गये, लेकिन उनकी चिंघाड़ से ग्रामीणों को पूरी रात दहशत में बितानी पड़ी.

Jharkhand Rai

देखें वीडियो

10 दिनों से विचरण कर रहा है हाथियों का झुंड

बताया जाता है कि पिछले 10 दिनों से बालूमाथ के शेरागड़ा बुकरु समेत आसपास के क्षेत्रों में विचरण कर रहा हाथियों का झुंड अचानक देर रात बिशुनपुर गांव में पहुंच गया. हाथी फसलों को बर्बाद करे रहे थे. लोगों को जब हाथियों के आने की आहट मिली तो मशाल जलायी और शोर मचा कर उन्हें जंगल की ओर खदेड़ा. इसी दौरान झुंड में शामिल हाथी का एक बच्चा पानी से भरे 7 फीट गहरे गड्ढे में जा गिरा. हालांकि हाथियों ने सूंढ़ से खींच कर बच्चे को करीब 2 घंटे की मशक्कत के बाद बाहर निकाल लिया.

इसे भी पढ़ें – News Wing Impact : विवादों में घिरे रांची के डीसीओ मनोज कुमार हटाये गये

Samford

काफी गुस्से में थे हाथी

हाथी के बच्चे के गड्ढे में गिर जाने से उसके साथी हाथी काफी गुस्से में थे और लगातार चिंघाड़ रहे थे. ऐसे में ग्रामीण वापस अपने घरों में चले गये. इस संबंध में रेंजर पीपी साहू ने बताया कि हाथियों का झुंड बालूमाथ के शेरागड़ा बुकरु समेत आसपास के क्षेत्रों में पिछले 10 दिनों से विचरण कर रहा था. बीच में रेलवे लाइन होने की वजह से यह झुंड उसे पार नहीं कर पा रहा था और गांव में चला आ रहा था.

वन विभाग ने किया ग्रामीणों को अलर्ट 

कुएं में हाथी के बच्चे के गिर जाने की सूचना वन विभाग और बालूमाथ थाना को दे दी गयी. इसके बाद पुलिस और वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों को कुएं के पास नहीं जाने की हिदायत देते हुए खुद को सुरक्षित रखने की सलाह दी. घटना के बाद हाथी इतने उग्र थे कि कुएं के पास जाकर किसी भी प्रकार का रेस्क्यू कार्य चलाना संभव ही नहीं था.

इसे भी पढ़ें – Chatra : एनटीपीसी ने रैयतों के मकान पर चलवाया बुलडोजर

सुरक्षा के लिए ग्रामीणों ने चारों तरफ जला रखी थी आग

घटना के बाद उग्र हाथियों के आक्रोश से बचने के लिए ग्रामीणों ने गांव के चारों ओर आग जला कर पूरे गांव की घेराबंदी कर ली. ग्रामीण ढोल और टीन आदि पीट कर भी शोर मचा रहे थे, ताकि हाथी गांव में प्रवेश न करें. इस बीच लगभग 2 घंटे के बाद हाथियों ने अपने बच्चे को सुरक्षित कुएं से बाहर निकाल लिया और चिंघाड़ते हुए जंगल की ओर चले गये.

वन विभाग हाथियों के झुंड को लगातार रेलवे लाइन पार कराने का प्रयास कर रहा था. लेकिन सफलता नहीं मिल रही थी. बुधवार की देर रात हाथियों का झुंड रेलवे लाइन को क्रॉस कर गया और इसी क्रम में बिशुनपुर ग्राम पहुंचा था. अभी हाथियों के झुंड को गांव से भगा दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – अब कॉमिक्स के रूप में आयेगी झारखंड के जनजातीय नायकों की कहानी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: