न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लातेहार : 10 लाख के इनामी नक्सली रवींद्र गंझू के पिता की दो एकड़ 45 डिसमिल जमीन जब्त, बिक्री पर भी लगी रोक  

33

Palamu(Latehar): भाकपा माओवादी के बड़े नक्सलियों ने लेवी के पैसे से अपने और परिजनों के नाम पर लाखों करोड़ों की संपत्ति बनाकर रखी है. संपति बनाने की पुष्टि होने पर इस दिशा में कार्रवाई कर उसे जब्त किया जा रहा है. इसी कड़ी में भाकपा माओवादी के जोनल कमांडर रवींद्र गंझू द्वारा अपने पिता के नाम पर खरीदी गयी दो एकड़ 45 डिसमिल जमीन जब्त की गयी है.

लातेहार जिले के चंदवा थाना पुलिस ने भाकपा माओवादी के 10 लाख रुपए के इनामी नक्सली जोनल कमांडर रवींद्र गंझू के पिता के नाम से अर्जित दो एकड़ 45 डिसमिल जमीन को जब्त करते हुए उसकी खरीद बिक्री पर रोक लगा दी है. यह जमीन चंदवा प्रखंड की लाधुप पंचायत के हेसला गांव के बांझी टोला निवासी रामवृक्ष गंझू उर्फ रामव्रत गंझू (पिता अकला गंझू) के नाम से है, जिसका रिकॉर्ड चंदवा अंचल के रजिस्टर टू में अंकित है. इसका खाता नंबर 41, 42, 43 व 45 है. वर्तमान में रामवृक्ष के नाम से मालगुजारी रसीद भी कट रही है.

रवींद्र पर दर्जनों मामले विभिन्न थाना में है दर्ज

इस संबंध में पुलिस प्रशासन ने रामवृक्ष गंझू के घर के समीप एक सूचना बोर्ड लगाया है. रवींद्र गंझू पर मनिका थाना कांड संख्या 36/2013 के तहत भादवि की धारा 147,148, 149, 307, 353 के अलावे 27 आर्म्स एक्ट, 17 सीएलए एक्ट व 10/13/19 यूए (पी) एक्ट 1967 के तहत मामला दर्ज है. इस मामले में वह फरार चल रहा है. रवींद्र पर दर्जनों मामले विभिन्न थाना में दर्ज हैं. लेकिन मनिका थाना में दर्ज मामले में ही यह कार्रवाई की गयी है.

डीजीपी के निर्देश पर की गयी कार्रवाई

पुलिस महानिदेशक के कार्यालय ज्ञापांक 942 दिनांक 16 मार्च 2018 यूएपीए की धारा 24(क) व 25 के प्रावधानों का हवाला देते हुए यह कार्रवाई की गयी है. लातेहार डीसी के कार्यालय ज्ञापांक 2563 दिनांक 17 नवंबर के द्वारा अंचलाधिकारी चंदवा मो. मुमताज अंसारी को उक्त जब्त भूमि का संरक्षक व रिसीवर बनाया गया है.

चंदवा थाना के इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी मोहन पांडेय ने बताया कि पुलिस महानिदेशक के निर्देशानुसार इस भूमि की खरीद बिक्री पर रोक लगायी गयी है. यह जमीन नक्सली रवींद्र गंझू के पिता के नाम से है. इधर, अंचलाधिकारी मुमताज अंसारी ने कहा कि इसे सीधे तौर पर नक्सली कमांडर की संपत्ति नहीं कह सकते.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: