न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अवैध उगाही का अड्डा बना लातेहार जेल ! हर कदम पर होती है वसूली

दस्तावेज हो या सामान हर चीज पर होती है वसूली

934

Manoj Dutt Dev
Latehar: लातेहार सिविल कोर्ट यूं तो हर सम्भव प्रयास कर रहा है कि लातेहार जेल में बंद विचाराधीन बंदियों को सुलभ एवं निःशुल्क न्याय मिले. लेकिन इसकी आड़ में लातेहार मंडल कारा के कर्मचारी और अधिकारी मालामाल हो रहे हैं. जेल में कोर्ट से पहुंचने वाले हर दस्तावेजों में उगाई की जाती है. जैसा न्यायालय का कागजात वैसी ही वसूली होती है.

इसे भी पढ़ेंःडॉक्टरों और नर्सों की लापरवाही ने ली मरीज की जान ! परिजनों का PMCH में हंगामा

दस्तावेजों पर वसूली 

नाम ना छापने की शर्त पर लातेहार सिविल कोर्ट के वकीलों के मुंशियों ने बताया कि लातेहार जेल में बंद विचाराधीन कैदियों के परिजनों से वकीलों के मुंशी के माध्यम से सिविल कोर्ट के वकालतनामा पर 30 रुपया की वसूली, जबकि हाईकोर्ट के वकालतनामा पर 50 रुपया की वसूली, सुलह के कागजात पर 200 रुपये, एवं एफिडेविट के कागजात पर 80 रुपये की वसूली की जाती है. सूत्रों ने बताया कि इसके पीछे जेल के राईटर सह सजायाफ्ता बंदी अरविंद सिंह एवं मुकेश द्वारा की जाती है.

इसे भी पढ़ेंःमसानजोर : बांध पर अधिकार की बात तो छोड़िये, करार तक पूरा नहीं किया बिहार, झारखंड और बंगाल सरकार ने

कड़ी सुरक्षा के बीच होता गोरखधंधा

palamu_12

ज्ञात हो कि लातेहार जिला अति नक्सल प्रभवित जिला है. वही लातेहार मंडल कारा गिरफ्तार माओवादियों, विचाराधीन कैदियों का जमावाड़ा है. जिस कारण लातेहार मंडल कारा की सुरक्षा का जिम्मा गृह रक्षा वाहिनी के साथ-साथ जिला बल के जवानों के जिम्मे है. जेल में अंदर से लेकर बाहर तक हर कदम पर सुरक्षा के पुख्ते इन्तेजाम हैं. बावजूद इसके जेल में विचारधीन कैदियों तक हर संभव सामग्री पहंच रही है. अगर विचाराधीन बंदियों तक एक हज़ार पहुंचाना है तो दो हज़ार रुपया सुरक्षा में तैनात कर्मियों को देने पड़ते हैं. इसके अलावे परिजनों के जरिए आनेवाले सामानों पर भी वसूली होती है. जैसा सामान वैसी रकम.

इसे भी पढ़ेंःछह सालों से आदिम जनजाति की बुजुर्ग को नहीं मिल रही पेंशन, अब खाने के भी पड़े लाले

एक-एक रुपया का होता बंदरबांट

लातेहार मंडल कारा की आम मुख्य दीवार से बंदी दीवार तक बंदियों के परिजनों से वसूले गये रुपये का हिसाब का जिम्मा जेल के राईटर सह सजायात बंदी अरविंद सिंह एवं मुकेश के जिम्मे है. राईटर सह सजायाफ्ता कैदी अरविंद सिंह एवं मुकेश के द्वारा वसूली गयी राशि का बंदरबांट बहुत ही ईमानदारी से किया जाता है ताकि सुरक्षा में सेंध ना लगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: