JharkhandPalamu

लातेहारः हाथी काल भैरव की मौत के मामले में उपायुक्त ने पुनः मांगा पीटीआर के उप निदेशक से प्रतिवेदन

  • बीडीओ के जांच प्रतिवेदन में मौत मामले में वन विभाग की लापरवाही आयी है सामने
  • प्रखंड विकास पदाधिकारी ने वन विभाग की लापरवाही से हाथी काल भैरव की मौत होने को लेकर उपायुक्त को भेजा है प्रतिवेदन
  • वन विभाग के सचिव को प्रतिलिपि किया गया प्रेषित

Palamu/Latehar: पलामू टाइगर रिजर्व के बेतला नेशनल पार्क में कर्नाटक के मैसूर से लाए गए हाथी काल भैरव की मौत पर उपायुक्त अबु इमरान ने पुनः उप निदेशक व्याघ्र परियोजना कोर एरिया से प्रतिवेदन समर्पित करने को लेकर पत्र भेजा है. साथ ही अविलंब जबाव समर्पित करने की बात कही है.

बताते चलें कि उपायुक्त अबु इमरान ने काल भैरव हाथी की मौत की सूचना के बाद संज्ञान लिया था एवं व्याघ्र परियोजना कोर एरिया के उप निदेशक को दो दिन पूर्व पत्र लिख कर प्रतिवेदन की  मांग की थी. लेकिन अबतक कोई जबाव नहीं मिलने के बाद उपायुक्त के द्वारा पुनः पत्र उप निदेशक व्याघ्र परियोजना को भेज कर बिंदुवार प्रतिवेदन समर्पित करने की बात कही है.

इन बिंदुओं पर मांगा गया था प्रतिवेदन

काल भैरव हाथी की मौत की सूचना के बाद उपायुक्त अबु इमरान के द्वारा व्याघ्र परियोजना के उप निदेशक से पत्र के माध्यम से किस परिस्थिति में हाथी को चयनित आश्रय से हटाकर अन्य स्थल पर रखा गया, घटना के समय रेंजर के द्वारा काल भैरव की सुरक्षा को लेकर क्या कदम उठाए गए एवं केन्द्र सरकार के द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार हाथी को रखा गया था या नहीं? इसके अलावे उपायुक्त अबु इमरान के द्वारा अन्य कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रतिवेदन उपलब्ध करवाने को लेकर उप निदेशक को निर्देशित किया गया था.

इसे भी पढ़ें – तीन आइएएस का तबादला, केके सोन बने स्वास्थ्य सचिव

बीडीओ के प्रतिवेदन में वन विभाग की लापरवाही आयी है सामने

उपायुक्त अबु इमरान के निर्देश पर प्रखंड विकास पदाधिकारी बरवाडीह के द्वारा हाथी काल भैरव की मौत के मामले पर जांच की गई. जांच रिर्पोट में बीडीओ के द्वारा वन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही बतायी गई है. बीडीओ ने अपने प्रतिवेदन समर्पित करते हुए कहा है कि पहले पालतू हाथी बेतला रेस्ट हाउस के पास ही रखे जाते थे, लेकिन विगत तीन वर्षो से हाथी को पलामू किला शेड में रखा जाता था जो जंगल में पड़ता है, लेकिन इसके बावजूद हाथियों की सुरक्षा को लेकर वन विभाग के द्वारा कोई इंतजाम नहीं किए गए थे जो हाथियों की सुरक्षा में लापरवाही दर्शाता है. बीडीओ ने अपने प्रतिवेदन में बेतला रेंजर को जिम्मेवार बताया है.

वन विभाग के सचिव को प्रतिलिपि किया गया प्रेषित

हाथी काल भैरव की मौत के बाद उपायुक्त अबु इमरान के द्वारा व्याघ्र परियोजना के उप निदेशक से मांगे गए प्रतिवेदन एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा भेजी गयी जांच रिपोर्ट की प्रतिलिपि वन विभाग के सचिव को प्रेषित कर दिया गया है.

विदित हो कि गत सोमवार की रात दो जंगली हाथियों ने बेतला नेशनल पार्क के एक पालतू हाथी को पटककर मार डाला. घटना के वक्त पालतू हाथी काल भैरव चैन में बंधा था. काल भैरव का पेट हाथी के दांत लगने से फट गया और उसकी मौत हो गई थी. काल भैरव समेत तीन हाथियों को 30 मार्च 2018 को कर्नाटक से लाया गया था. महावत लाल बिहारी सिंह, बंशी यादव, सत्येंद्र सिंह, विरेंद्र भूइया, अंतू भूइया, रघुनाथ के अनुसार, बेतला नेशनल पार्क में अब कुल 4 पालतू हाथी बचे हैं. काल भैरव के पैरों में जख्म होने की वजह से उसे बाकी हाथियों से अलग बांधा गया था. इसी बीच देर रात दो व्यस्क जंगली हाथी उसके पास पहुंचे और लड़ाई करने लगे. दोनों हाथियों ने काल भैरव को पटक कर मार डाला था.

इसे भी पढ़ें – राबड़ी, तेजस्वी और तेजप्रताप पहुंचे रांची, लालू से मिलने रिम्स गये

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: