Palamu

लातेहार: मालगाड़ी की चपेट में आने से गर्भवती समेत पांच हिरणों की मौत

वन विभाग मामले की जांच में जुटा

Latehar: जंगली जानवरों की मौत को लेकर हमेशा लाइमलाइट में रहने वाला पलामू टाइगर रिजर्व इस बार एक साथ पांच हिरणों की मौत से चर्चा में है. पीटीआर के बीच से गुजरे अप रेलवे ट्रैक पर मालगाड़ी की चपेट में आने से एक साथ नवजात सहित पांच हिरणों की मौत हो गयी. घटना गढ़वारोड-बरवाडीह रेलखंड के केचकी रेलवे स्टेशन के पास हुई. घटना के बाद वन विभाग मामले की छानबीन में जुट गयी है. एक साथ ट्रेन की चपेट में आने से 5 हिरणों की मौत के बाद जंगली जानवरों की सुरक्षा पर फिर से सवाल उठने लगे हैं.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंः भारत-चीन के सैनिकों में फिर झड़प, 29-30 अगस्त की रात पैंगौंग झील में घुसपैठ की थी कोशिश

MDLM

बताया जा रहा है कि सोमवार की सुबह 4-5 बजे चार हिरणों का झुंड केचकी रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पार कर रहा था. इसी बीच बरवाडीह की ओर से आ रही लोडेड मालगाड़ी की चपेट में ये हिरण आ गये. धक्का लगने के बाद दो हिरणों की मौके पर मौत हो गयी. जबकि दो को ट्रेन घसीटते हुए कुछ दूर तक ले गयी. इससे चारों हिरणों की मौत हो गयी.

गर्भवती हिरण और उसके नवजात ने भी तोड़ा दम

हिरणों की झुंड में एक गर्भवती हिरण भी थी. चपेट में आने पर गर्भवती हिरण और उसके बच्चे ने भी दम तोड़ दिया. जब हादसा हुआ तो गर्भवती हिरण का पेट फट गया. इससे नवजात की भी दर्दनाक मौत हो गयी.

मौके पर पहुंचे डीएफओ और रेंजर

सूचना मिलने पर डीएफओ कुमार मनीष और रेंजर प्रेम प्रसाद मौके पर पहुंचे. रेलवे की ओर से आरपीएफ की एक टीम भी मौके पर पहुंची. सभी ने घटनास्थल का जायजा लिया. वन विभाग के कर्मियों ने हिरणों के शव को एकत्रित किया. पोस्टमार्टम के बाद सभी को दफना दिया जाएगा. माना जा रहा है कि हिरणों का झुंड भटक कर गांव चला गया था और वापस आते वक्त रेल पटरी पर पहुंचा. इसी दौरान मालगाड़ी आ गई. इस वजह से यह हादसा हुआ.

इसे भी पढ़ेंः मदन साहू हत्याकांड : 3 अपराधी गिरफ्तार, रांची पुलिस जल्द कर सकती है कांड का खुलासा

इस संबंध में बेतला रेंजर प्रेम प्रसाद ने बताया कि हमलोगों को सुबह करीब सात बजे ग्रामीणों की ओऱ से इस घटना की सूचना मिली. घटना अहले सुबह की बताई जा रही है. सूचना मिलते ही वनकर्मियों ने घटनास्थल पर पहुंच कर मामले की जांच की. सभी हिरणों के शव बेतला रेंज कार्यालय लाये गये, वहां पोस्टमॉर्टम के बाद शवों को दफना दिया जाएगा. बताते चलें कि हिरण फसल खाने के चक्कर में गांवो में भटकर आ जाते हैं. आज भी ऐसा ही हुआ और फिर से वापस पार्क जाने के क्रम में ट्रेन की चपेट आ गए.

पशु चिकित्सक के नहीं रहने पर पोस्टमार्टम में हुई देरी

विभागीय सूत्रों के अनुसार, हिरणों के शव एकत्रित कर बेतला रेंज कार्यालय लाया गया. लेकिन पशु चिकित्सक डा. चंदव देव के गायब रहने के कारण पोस्टमार्टम अबतक नहीं हो पाया. सुबह से लाया गया शव दोपहर 12 बजे तक पड़ा रहा. सूत्रों का कहना है कि डा. देव तीन-चार दिनों से बिना किसी विभागीय सूचना के गायब हैं. उन्हें सूचित किया गया है. उनके आने पर पोस्टमार्टम किया जाएगा. इसके बाद शवों को दफनाया जाएगा.

इसे भी पढ़ेंः रांची: ओरमांझी में 18 वर्षीय युवती ने फांसी लगा कर की आत्महत्या

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button