न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लातेहारः मोदी सरकार की मजदूर विरोधी नितियों के खिलाफ किसान सभा का प्रदर्शन 

889

Latehar: केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ श्रमिक संगठनों के देशव्यापी हड़ताल का आज दूसरा और आखिरी दिन रहा. हड़ताल के आखिरी दिन झारखंड राज्य किसान सभा लातेहार के बैनर तले सैंकड़ों किसान मजदूरों ने बालुमाथ प्रखंड के चितरपुर,धाधु पंचायत में कृषि कार्य बंद कर हड़ताल की. और प्रदर्शन किया. इस दौरान किसानों ने अपनी मांगों के समर्थन में और मोदी सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी की.

क्या है मांगें

लातेहार के किसानों ने नरेंद्र मोदी सरकार की मजदूर किसान विरोधी नितियों,  उनके हकों, ट्रेड यूनियनों पर हमले के खिलाफ साथ ही महंगाई रोकने और रोजगार सृजन के लिए न्यूनतम 18 हजार रूपया वेतन, सभी के लिए 6 हजार रुपये पेंशन, ऑउटसोर्सिंग जैसे तरीकों के निजीकरण पर रोक लगाने, श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा देने सहित आदि मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया.

प्रदर्शन का नेतृत्व जिलाध्यक्ष अयुब खान, सचिव बालेश्वर उरांव ने किया. लोगों को संबोधित करते हुए अयुब खान ने कहा है कि हड़ताल से ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा प्रभावित हुई है, रेलवे लोको पायलट व उद्योग के कामकाज पर असर पड़ा है. यह हड़ताल मजदूर वर्ग द्वारा अपने अधिकारों को हासिल करने के लिए की गई है.

श्रमिकों के मुद्दों पर उसकी 12 सूत्रीय मांगों पर सरकार ने अबतक कोई ध्यान नहीं दिया. सितंबर 2015 के बाद केंद्र सरकार ने यूनियनों से एक बार भी बात नहीं की.

नेताओं ने सरकार पर श्रमिकों के प्रतिकूल नीतियां अपनाने का भी आरोप लगाया है, इस दौरान शोभन उरांव, हनुक लकड़ा ने भी संबोधित किया.  इस अवसर पर अरूण उरांव, परमेश्वर उरांव, इलयाजर लकड़ा, पतरस लकड़ा, सोमरा उरांव, प्रेम दास लकड़ा, राजू उरांव, राजेश उरांव, लछमन मांझी, बोलको देवी, साधन उरांव, हरगोबींद उरांव, संजय उरांव, बीरेंन्द्र उराव समेत कई लोग शामिल हुए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: