Crime News

लातेहार: एक लाख का इनामी नक्सली ‘काका’ गिरफ्तार, 13 वर्ष से है नक्सली संगठन में

Palamu/Latehar: नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में लातेहार पुलिस को एक बार फिर सफलता हाथी लगी है. गुप्त सूचना पर पुलिस ने मनकेरी गांव में छापामारी कर एक लाख रुपये के इनामी नक्सली रामदेव लोहरा उर्फ काका को गिरफ्तार किया है. काका उग्रवादी संगठन जेजेएमपी से जुड़ा हुआ था और इस संगठन में वह सबजोनल कमांडर के पद पर था. इससे पहले आठ वर्ष तक प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी में था. उसके खिलाफ 14 आपराधिक मामले दर्ज हैं. पुलिस को इस नक्सली की लंबे समय से तलाश थी. काका लातेहार के कोने गांव का निवासी है.

इसे भी पढ़ें – आसमान छू रही सीमेंट की कीमतः भवन निर्माण के प्रोजेक्ट्स पर आठ फीसदी तक की हो सकती है वृद्धि

गुप्त सूचना पर हुई गिरफ्तारी

डीएसपी बीरेन्द्र कुमार राम ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि लातेहार के मनकेरी गांव में आपराधिक घटनाओं के उद्देश्य से जेजेएमपी उग्रवादियों का जुटान हुआ है. सूचना पर कार्रवाई की गयी. सर्च अभियान चलाते हुए जब पुलिस मनकेरी गांव पहुंची तो जेजेएमपी उग्रवादियों में भगदड़ मच गयी. बाद में खदेड़ कर एक उग्रवादी को पकड़ा गया. उसकी पहचान रामदेव लोहरा उर्फ काका के रूप में हुई.

advt

इसे भी पढ़ें – स्पंज आयरन फैक्टरी की बढ़ेगी मुश्किल, 24 मई से ओड़िशा के ट्रक और ट्रेलर को झारखंड में आने से रोकेगा एसोसिएशन

2006 में जुड़ा था नक्सली संगठन से

डीएसपी ने बताया कि रामदेव लोहरा उर्फ काका पर एक दर्जन से अधिक आपराधिक मामले लातेहार के विभिन्न थानों में दर्ज हैं. उसकी लंबे समय से तलाश थी. रामदेव लोहरा उर्फ काका पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था. 2006 में रामदेव लोहरा उर्फ काका माओवादी दस्ते में शामिल हुआ और कई वारदातों को अंजाम दिया. पुलिस के साथ मुठभेड़, लैंड माइंस विस्फोट की घटनाओं में इसकी संलिप्तता रही.

इसे भी पढ़ें – JAC इंटर आर्ट्स रिजल्ट जारी, 79.97 प्रतिशत बच्चे पास

तीन वर्ष रहा जेल में

2014 में रामदेव लोहरा उर्फ काका को छतीसगढ़ में गिरफ्तार किया गया. इस दौरान उसे छतीसगढ़ के अलावा लोहरदगा और लातेहार की जेलों में रखा गया. रामदेव लोहरा उर्फ काका 2017 में जेल से निकला और घर आ गया. कुछ दिनों के बाद उसकी गतिविधि उग्रवादी संगठन जेजेएमी में देखी गयी. उसी समय से उसकी गिरफ्तारी के लिए तलाश की जा रही थी.

adv

इसे भी पढ़ें – दरिंदगीः पिता ने अपने दो बेटों को जिंदा जलाया, एक की मौत-दूसरा लड़ रहा जिंदगी की जंग, पत्नी गंभीर 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button