न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीबीआई निदेशक चुनने में हो रही देर, खड़गे की आपत्ति नहीं मानेगी सरकार, जल्द हो सकती है घोषणा 

सीबीआई निदेशक चुनने की कवायद परवान नहीं चढ़ रही है. कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के एतराज के बावजूद केंद्र जल्द ही एजेंसी के अगले प्रमुख के नाम की घोषणा कर सकता है.

51

NewDelhi : सीबीआई निदेशक चुनने की कवायद परवान नहीं चढ़ रही है. खबर है कि शुक्रवार को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली चयन समिति की बैठक में प्रस्तावित नामों को लेकर समिति के सदस्य कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के एतराज के बावजूद केंद्र जल्द ही एजेंसी के अगले प्रमुख के नाम की घोषणा कर सकता है. अधिकारियों ने जानकारी दी कि बैठक में अधिकारियों के नाम सामने रखे गये जिन्हें सीबीआई निदेशक पद पर नियुक्ति के योग्य माना गया. लेकिन इन नामों पर खड़गे ने अड़ंगा लगाया. प्रधानमंत्री के आवास पर हुई बैठक एक घंटे से ज्यादा समय तक चली. सीजेआई रंजन गोगोई ओर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बैठक में शामिल हुए. इससे पहले 24 जनवरी को बैठक हुई थी लेकिन उसमें भी सीबीआई प्रमुख पर कोई फैसला नहीं हो पाया था. बताया जा रहा है कि इस पद के लिए 1984 बैच के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी जावेद अहमद,  रजनी कांत मिश्रा, एसएस देसवाल सबसे आगे हैं. यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी जावेद  अहमद वर्तमान में राष्ट्रीय अपराधशास्त्र एवं विधि विज्ञान संस्थान के प्रमुख हैं.  जावेद  अहमद के कैडर के तथा उनके सहपाठी  रजनी कांत  मिश्रा सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के प्रमुख हैं. इसी क्रम में  हरियाणा कैडर के आईपीएस देसवाल भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के महानिदेशक हैं.

SC ने कहा कि सीबीआई निदेशक का पद संवेदनशील है

चयन समिति की बैठक की कोई जानकारी दिये बिना एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि बैठक में किसी तरह का फैसला नहीं हो पाया.  बता दें कि इससे एक दिन पूर्व सुप्रीम कोर्ट (SC) ने कहा था कि वह अंतरिम सीबीआई निदेशक की नियुक्ति के खिलाफ’ नहीं है. लेकिन केन्द्र को तत्काल केन्द्रीय जांच ब्यूरो के नियमित निदेशक की नियुक्ति करनी चाहिए SC ने कहा कि सीबीआई निदेशक का पद संवेदनशील है और लंबे समय तक इस पद पर अंतरिम निदेशक को रखना अच्छी बात नहीं है.  पीठ ने इस टिप्पणी के साथ ही सरकार से जानना चाहा कि अभी तक इस पद पर नियुक्ति क्यों नहीं की गयी. बता दें आलोक वर्मा को हटाए जाने के बाद से सीबीआई प्रमुख का पद 10 जनवरी से ही खाली है.

Related Posts

#CAA पर मचे बवाल के बीच सीतारमण ने कहा, पिछले छह सालों में मुस्लिमों सहित 3924 शरणार्थियों को दी गयी भारतीय नागरिकता

6 सालों में 2838 पाकिस्तानी शरणार्थियों, 914 अफगानिस्तानी शरणार्थियों और 172 बांग्लादेशी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी गयी, जिनमें मुस्लिम समुदाय के लोग भी शामिल हैं.

Sport House

इसे भी पढ़ें : राहुल का हमला, नोटबंदी और भ्रष्टाचार को लेकर मोदी सरकार पर होगी सर्जिकल स्ट्राइक

Mayfair 2-1-2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like