न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चार सालों में रघुवर सरकार ने अपने प्रचार-प्रसार में खर्च किए तीन अरब रुपए

5,088

Chandan Choudhary

Ranchi: झारखंड में रघुवर दास के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने दिसबंर 2014 से लेकर अबतक 300 करोड़ से अधिक रुपए सिर्फ अपने प्रचार-प्रसार में खर्च कर दिए. इसका खुलासा आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी से हुआ है. जितनी राशि सरकार ने विज्ञापन में खर्च किये, उतनी राशि से राजधानी में दो ऐलिवेटेड फ्लाईओवर और गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले 5000 से अधिक परिवारों को छत मुहैया कराई जा सकती थी. सिर्फ विज्ञापन के नाम पर तीन अरब से अधिक खर्च करने का सरकार ने अनोखा रिकॉर्ड बना दिया.

आरटीआई से मिली जानकारी

ओंकरा विश्वकर्मा द्वारा आरटीआई के तहत मांगी गई सूचना के बाद हुआ. दी गई सूचना में यह बताया गया कि बीते चार वर्षों में राज्य सरकार ने सिर्फ विज्ञापन के नाम पर लगभग 323 करोड़ रुपए फूंक डाले. विभिन्न कार्यक्रमों में होर्डिंग्स, पोस्टर, बैनर लगाने से लेकर प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से सरकार ने यह राशि खर्च की है. जनता की गाढ़ी कमाई सरकार ने सिर्फ विज्ञापन में उड़ा डाले.

चार सालों में 323 करोड़ खर्च

सूचना के अधिकार के तहत बताया गया कि सरकार ने वर्ष 2014 से लेकर 12 दिसबंर 2018 तक लगभग 323 करोड़ रूपए खर्च किए. वर्ष 2014-15 में विज्ञापन के लिए 40 करोड़ का आवंटन किया गया था. इसमें पूरी राशि खर्च कर दी गई. इसके अलावा वर्ष 2015-16 में 55 करोड़ रुपए विज्ञापन के लिए आवंटित हुआ, जिसमें 54 करोड़ 99 लाख रुपए खर्च हुए. वहीं 2016-17 में 70 करोड़, 2017-18 में 78 करोड़ और 2018-19 में 80 करोड़ रुपए विज्ञापन मद में आवंटित किए थे. सभी मदों की राशि लगभग खर्च कर दी गई. प्रत्येक वित्तिय वर्ष में विज्ञापन मद की राशि में बढोतरी की गई और विज्ञापन के नाम पर खर्च भी किया गया. यदि एक औसत भी देखा जाये सरकार ने प्रत्येक वर्ष लगभग 80 करोड़ रुपए सिर्फ विज्ञापन में ही खर्च कर दिए.

Related Posts

धनबाद : हाजरा क्लिनिक में प्रसूता के ऑपरेशन के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

परिजनों ने किया हंगामा, बैंक मोड़ थाने में शिकायत, छानबीन में जुटी पुलिस

SMILE

किस वर्ष कितना आवंटन हुआ और कितनी राशि हुई खर्च

 

वित्तीय वर्षप्राप्त आवंटनव्ययशेष राशि
2014-1540,00,00,00040,00,00,000शून्य
2015-1655,00,00,00054,99,99,380620
2016-1770,00,00,00070,00,00,000शून्य
2017-1878,76,81,00077,43,11,0821,33,69,918
2018-1980,00,00,00062,20,04,09917,79,95,901

 

जानें गृह सचिव ने डीजीपी से क्या कहा

इसे भी पढ़ेंःक्रिसमस की छुट्टी के दिन तीन आइएएस बदले, दो को अतिरिक्त प्रभार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: