DhanbadJharkhand

कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ चल रही हड़ताल का अंतिम दिन, व्यापक असर  

विज्ञापन
Advertisement

Dhanbad: कोयला उद्योग में कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ मजदूर यूनियनों की तीन दिवसीय हड़ताल का व्यापक असर देखा जा रहा है. हड़ताल के पहले दिन से ही कोल इंडिया की कंपनियों में उत्पादन और डिस्पैच पर इसका पूरा प्रभाव पड़ा है. सीसीएल-बीसीसीएल में उत्पादन और डिस्पैच पूरी तरह ठप है.

कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ हड़ताल में शामिल इंटक, एटक, बीएमएस, एचएमएस और सीटू नेताओँ ने दावा किया है कि ये हड़ताल पूरी तरह सफल रही. कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ चल रही हड़ताल का शनिवार को अंतिम दिन है. बीसीसीएल में पहले दिन की तरह ही कोयला श्रमिकों की संख्या कम देखी गयी. वही बीसीसीएल के एरिया 12 , धनुडीह, लोदना, तीसरा, सुदामडीह, भौरा समेत कई कोलियरियों में हड़ताल का व्यापक असर रहा.

कोयला खदान में मजदूरों की उपस्थिति शून्य रही. कोयला ढुलाई और रेलवे के माध्यम से होने वाला डिस्पैच भी पूरी तरह से प्रभावित रहे. मजदूर सुनील रॉय ने कहा कि इस हड़ताल के माध्यम से  कोयला उद्योग के मजदूरों ने केंद्र सरकार को यह चेतावनी दी है कि यदि कॉमर्शियल माइनिंग के निर्णय को जल्द वापस नहीं लिया गया तो आने वाले दिनों मे अनिश्चितकालीन  हड़ताल भी की जा सकती है जिसकी जवाबदेही सरकार की होगी.

advt

इसे भी पढ़ें – जामताड़ा : एक प्रिंसिपल के भरोसे चल रहे हैं पांच जिलों के आइटीआइ कॉलेज

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: