JharkhandLead NewsRanchi

रूपा तिर्की मौत मामले में जमीन विवाद केस से मिलेगा सुराग ! CBI की पड़ताल जारी

Ranchi : महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की मौत मामले में सीबीआई की टीम एक-एक कड़ी जोड़ते हुए आगे बढ़ रही है. रूपा तिर्की को धमकी मिली थी या नहीं, इसका जवाब तलाशने के लिए सीबीआई जमीन विवाद के केस से जुड़े लोगों से पूछताछ कर रही है.

इसे भी पढ़ें : पाकुड़ में जमीन विवाद में रिश्तों का खून, चाचा-चाची ने मिलकर भतीजे को उतारा मौत के घाट

रूपा तिर्की की मौत के बाद परिजन और महाधिवक्ता राजीव कुमार के द्वारा धमकी मामले में लगातार हाईकोर्ट में आवाज उठाते रहे हैं इस मामले में हाईकोर्ट ने भी जमीनी विवाद मे शक जाहिर किया है सीबीआई टीम को इस बिंदु पर भी जांच करने का आदेश दिया है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

सीबीआई टीम का मानना है कि नवंबर 2020 में रूपा तिर्की को महिला थाना प्रभारी बनाया गया था. उसके बाद 11 केस को वह देख रही थी, जिसमें 5 केस हाई प्रोफाइल था. लेकिन इस बीच ऐसा क्या हुआ कि रात के 3 बजे रूपा तिर्की की संदेहास्पद स्थिति में मौत हो जाती है. इस सवाल के जवाब में अब सीबीआई की टीम सभी केस से जुड़े बिंदुओं पर खंगालना शुरू कर चुकी है. रूपा तिर्की जिस हाई प्रोफाइल केस को खुद देख रही थी, अब सीबीआई की टीम केस से जुड़े लोगों से पूछताछ शुरू कर चुकी है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

सीबीआई ने दूसरे पक्ष की महिला रिद्धि तंबाकूवाला के ससुर भगवान टिबरेवाल से कई सवाल किए. इससे पहले शनिवार को जमीन विवाद से जुड़े पहला पक्ष सिद्धार्थ शर्मा और मामले की जांच कर रहे आईओ प्रमोद कुमार से पूछताछ की. सीबीआई प्रमोद कुमार के जवाब से संतुष्ट नहीं है. इसलिए उनसे दोबारा पूछताछ की जा सकती है.

सीबीआई को पता चला है कि इस साल जनवरी के बाद बतौर अनुसंधानकर्ता रूपा के पास कोई नया केस नहीं था. जबकि वह नवम्बर से ही महिला थाना प्रभारी थीं. सूत्रों ने बताया कि सीबीआई को पूछताछ में रूपा की नजदीकी दो-तीन महिला बैचमेट से पता चला है कि कई बार बातचीत में वह किसी से ‘खुद निपट लेने’ जैसी बात करती थी. हालांकि वह साफ-साफ किसी का नाम लेकर कभी कुछ भी नहीं कही.

इसे भी पढ़ें : दुमका मेडिकल कॉलेज में इस साल होगा एडमिशन, मिली अनुमति

Related Articles

Back to top button