न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबादः जिला प्रशासन और नगर निगम की ओर से डिवाइडर पर लगाये गये लाखों रुपये के पौधे सूखे

1,318

Dhanbad : जल शक्ति और हरा-भरा धनबाद अभियान के तहत जिला प्रसासन और नगर निगम की ओर से सड़क के बीच बने डिवाइडर में एक माह पूर्व काफी तामझाम से पौधे लगाये गये थे. इन पौधों को लगाने में विभाग की ओर से लाखों रुपये खर्च भी किये गये थे.

लेकिन देखरेख के अभाव में ये सभी पौधे महज एक माह में ही सूख गये या जानवरों का निवाला बन गये. अगर ये पौधे जीवित रहते तो सड़क देखने में तो सुंदर लगती ही, पर्यावरण पर भी इसका असर पड़ता. लोगों को कुछ हद तक ही सही लेकिन प्रदूषण से भी मुक्ति मिलती.

Sport House

इसे भी पढ़ेंः #PopeFrancis ने वेटिकन सिटी में केरल की नन #MariamThresia को संत घोषित किया

न देखरेख की गयी न घेराबंदी हुई

एक माह पूर्व जिला प्रसासन और नगर निगम ने काफी ताम झाम से धनबाद के धैया- बरवाअड्डा सड़क के बीच बने डिवाइडर पर सैकडों पौधे लगाये थे. इस बीच खुद डीसी अमित कुमार, डीडीसी शशि रंजन कुमार,  मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल, नगर आयुक्त चंद्रमोहन कश्यप और कई अधिकारियों ने उपस्थित होकर पौधे लगाये थे.

इस दौरान कहा गया था कि पौधे को घेरा जायेगा और इसकी देखरेख भी की जायेगी. लेकिन न तो पौधों की घेराबंदी की गयी और न ही इनकी देखरेख की गयी फलस्वरूप ये पौधे या तो सूख गये या फिर आवारा पशुओं का निवाला बन गये.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ेंः #EconomicSlowdown  : अब World Bank ने 2019-20 में भारत का GDP अनुमान घटा कर 6 फीसदी किया

आवारा पशुओं ने भी बनाया निवाला

पौधरोपण करने के बाद सभी अधिकारी ने इस तरफ झांकना भी उचित नहीं समझा. समय पर देखरेख नहीं होने के कारण ये पौधे सूख गये. घेराबंदी नहीं होने के कारण सड़कों पर घूमने वाले आवारा पशुओं ने इन पौधों को अपना निवाला बना लिया.

बरवाअड्डा से लेकर धैया तक डिवाइडर पर कई तरह के पौधे लगाये गये थे. इनमें कनेर के साथ कई किस्म के फूल के पौधे थे. कुछ लोगों का यह भी कहना है कि कांट्रैक्टर ने डिवाइडर पर कचरा डलवा दिया जिसस कारण ये पौधे सूखने लगे.

वहीं नगर निगम के जल शक्ति अभियान के प्रभारी बिजय कुमार का कहना है कि ये जिला प्रसासन और नगर निगम दोनों की संयुक्त योजना थी. उन्होंने कहा कि फूल के पौधों की टहनी लगायी गयी थी. इसलिए पौधे निकलने में देर हो रही है. ये पौधे मरे नहीं हैं, बल्कि फिर से निकलेंगे.

इसे भी पढ़ेंः #Japan में 60 सालों में सबसे भयंकर #TyphoonHagibis, 14 की मौत, तेज बारिश ने कहर बरपाया

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like