Bihar

कुशवाहा की खूनी धमकी से बिहार में उबाल, पासवान ने कहा, चोर की दाढ़ी में तिनका, हम भी डिफेंसिव नहीं

Patna : उपेन्द्र कुशवाहा की खूनी धमकी से बिहार की राजनीति में उबाल है. कुशवाहा के सड़कों पर खून बहनेवाले बयान पर जेडीयू ने पलटवार करते हुए कहा कि हमने चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं. इस  क्रम में अब एलजेपी प्रमुख रामविलास पासवान भी उसी तेवर में जवाब दे रहे हैं. कहा कि हमने अपने कार्यकर्ताओं से कहा कि डिफेंसिव होने की कोई जरूरत नहीं है, बल्कि लोकतंत्र कमजोर करने की किसी भी कोशिश के खिलाफ लड़ने की आवश्यकता है. रामविलास पासवान ने उपेंद्र कुशवाहा पर सवाल उठाते हुए कहा कि अब कहते हैं हार जायेंगे तो खून खराबा होगा. यह तो सरासर चोर की दाढ़ी में तिनका वाली बात है.

इसे भी पढ़ें – एग्जिट पोल्स से परेशान विपक्षी दलों का चुनाव आयोग के बाहर प्रदर्शन, उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाया

पहले बूथ लूट और अब रिजल्ट लूट की तैयारी चल रही है

बता दें कि कुशवाहा ने मंगलवार को पटना में लोगों से हिंसक अपील कर डाली थी. उन्होंने एग्जिट पोल को सिरे से खारिज करते हुए साफ कहा था कि पहले बूथ लूट और अब रिजल्ट लूट की तैयारी चल रही है. अगर रिजल्ट लूट की घटना हुई तो महागठबंधन के नेताओं से आग्रह है कि हथियार भी उठाना हो तो उठा लें. सड़कों पर खून बहेगा.

advt

रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने आरोप लगाया कि एग्जिट पोल में बिहार में राजग को 40 में से 30 या उससे अधिक सीटों का अनुमान गुमराह करने वाला है. इसका एकमात्र उद्देश्य हमारे कार्यकर्ताओं का उत्साह भंग करने का है. कुशवाहा ने पत्रकारों से कहा कि पहले हम बूथ लूट के बारे में सुनते थे. इस बार, ऐसा संदेह है कि नतीजों को लूटने का प्रयास किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें – राफेल  डील : SC में प्रशांत भूषण सहित अन्य याचिकाकर्ताओं ने लिखित पक्ष रखा

 विरोधी हार रहे हैं, खासकर बिहार में हार गये हैं

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा, मैंने पहले ही कहा था कि पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए. जब विरोधी हार रहे हैं तो ईवीएम का बहना बना रहे हैं. रामविलास पासवान ने शांतिपूर्ण मतदान के लिए आयोग को धन्यवाद देते हुए कहा कि पहले की तरह विरोधी धनबल और बाहुबल को लाना चाह रहे हैं.  ईवीएम पर बार-बार सवाल उठाना गलत है. कई बार यह मामला चुनाव आयोग में गया है. विरोधी हार रहे हैं, खासकर बिहार में हार गये हैं. मीसा भारती वगैरह कहीं नहीं हैं.

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button