न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कुशवाहा का नीतीश पर पलटवारः पूछा उनकी डीएनए रिपोर्ट आयी या नहीं

26

Patna: रालोसपा प्रमुख कुशवाहा यूं तो नीतीश कुमार के एनडीए में शामिल होने के बाद से सीधे हमले से बचते नजर आये. लेकिन रविवार को बिहार के सीएम पर वो सीधा हमला करते नजर आये. उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा कि उनकी डीएनए रिपोर्ट क्या है. उन्होंने नीतीश से पूछा कि प्रदेश की जनता आप से यह जानना चाहती है कि आपके ‘डीएनए’ की रिपोर्ट क्या है और वह आयी या नहीं आयी.

इसे भी पढ़ेंःकुशवाहा को जेडीयू का जवाबः ‘जब तक बिहार के लोग चाहते हैं, नीतीश मुख्यमंत्री रहेंगे’

नीतीश पर पलटवार

दरअसल, पिछले कुछ दिनों ने केंद्रीय मंत्री कुशवाहा लगातार इस तरह के बयान दे रहे थे कि नीतीश कुमार को संन्यास ले लेना चाहिए. वही शनिवार को एक मीडिया हाउस के कार्यक्रम में कुशवाहा के लगातार हमले पर नीतीश कुमार से पूछे जाने पर उन्होंने कहा था कि सवाल जवाब का स्तर इतना नीचे ले जा रहे हैं.

जिसके बाद रविवार को मुजफ्फरपुर जिले में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुशवाहा ने नीतीश से पूछा,‘‘ आपको भले ही जरूरत हो या नहीं लेकिन प्रदेश की जनता आप से यह जानना चाहती है कि आपके ‘डीएनए’ की रिपोर्ट क्या है और वह आयी या नहीं आयी. आयी तो क्या रिपोर्ट है. जरा बताने का काम किजिए.’’

इसे भी पढ़ेंःमेरे परिवारवालों ने मुझे नकार दिया, मैं घुट-घुटकर नहीं जी सकता : तेजप्रताप

जनता के लिए करता हूं राजनीति

रालोसपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार जी मुझे ‘नीच’ कहते हैं. मैं इस मंच से बड़े भाई नीतीश कुमार से पूछना चाहता हूं कि उपेंद्र कुशवाहा इसलिए नीच है क्योंकि वह दलित, पिछड़ा और गरीब नौजवानों को उच्चतम न्यायालय में जज बनाना चाहता है. हम पिछड़ा एवं अति पिछड़े की बातों और उनके हितों को उठाते हैं इसलिए ‘नीच’ हैं. सामाजिक न्याय की बात करते हैं इसलिए उपेंद्र कुशवाहा ‘नीच’ है. गरीब घर के बच्चे कैसे पढे, इसके लिए अभियान चलाते है तो क्या उपेंद्र कुशवाहा इसके लिए ‘नीच’ है. उन्होंने कहा, ‘उपेंद्र कुशवाहा सम्मान के लिए राजनीति करता है. उपेंद्र कुशवाहा जनता के लिए राजनीति करता है.’

ज्ञात हो कि कुशवाहा ने गत बुधवार को पटना के रवींद्र भवन में सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार को ‘बडा भाई’ बताते हुए यह दावा किया था कि राजग में आने के बाद उनसे एक बार हुई व्यक्तिगत मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा था कि 15 साल मुख्यमंत्री रहना बहुत होता है, अब मन संतृप्त हो चुका है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: