न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एसटी सूची में शामिल होने की मांग करते हैं, पर विश्व आदिवासी दिवस नहीं मनाते कुरमियों के अगुआ राजनेता

पूर्व सांसद शलेन्द्र महतो विश्व आदिवासी दिवस से दूर रहे

1,867

Ranchi: खुद को आदिवासी समझने वाले झारखंड के कुरमी समाज से जुड़े कई संगठनों ने 9 अगस्‍त को विश्‍व आदिवासी दिवस मनाया, वहीं कुरमी समाज को आदिवासी सूची में शामिल होने के लिए राजनीतिक हुंकार भरने वाले राजनेता विश्‍व आदिवासी दिवस से दूर रहें.

इसे भी पढ़ें-भाजपा के 12 सांसद स्कूल मर्जर के खिलाफ, सीएम को लिखा पत्र

विश्व आदिवासी दिवस से दूर रहे पूर्व सांसद शैलेन्द्र महतो

एक ओर कुरमी विकास मोर्चा ने विश्‍व आदिवासी दिवस पर रांची के बिरसा मुंडा समाधि स्‍थल पर कार्यक्रम किया और उन्‍हें श्रद्धांजलि दी, वहीं दूसरी ओर कुरमी समाज को आदिवासी सूची में शामिल करने की लड़ाई लड़ने वाले अग्रणी नेता और पूर्व सांसद शैलेंद्र महतो, विश्‍व आदिवासी दिवस के कार्यक्रमों से दूर रहे. फोन पर बात करने पर पूर्व सांसद ने न्‍यूजविंग को बताया कि वह विश्‍व आदिवासी दिवस के किसी कार्यक्रम में शरीक नहीं हुए हैं. उन्‍होंने बताया कि वह अभी मनु पर एक किताब लिखने में व्‍यस्‍त हैं और दिन भर घर में ही हैं.

इसे भी पढ़ें-जेएमएम ने कहा-मसानजोर डैम हमारा मुद्दा, बीजेपी को नहीं है विस्थापितों की परवाह

शेलेन्द्र महतो की अगुवाई में हुई थी महाजुटान रैली

बता दें कि जमशेदपुर के पूर्व सांसद शैलेंद्र महतो की अगुआई में कुरमी समाज के लोगों को आदिवासी सूची में शामिल करने की लड़ाई लड़ी जाती रही है. 29 अप्रैल 2018 को इसी मांग के लिए उनके नेतृत्‍व में कुरमी महाजुटान रैली आयोजित की गई थी. इस कार्यक्रम में पूर्व सांसद आभा महतो, भाजपा सांसद विद्युतवरण महतो, पूर्व विधायक छत्रुराम महतो, खीरू महतो, लालचंद महतो, जलेश्‍वर महतो, विधायक जगन्‍नाथ महतो, जयप्रकाश भाई पटेल भी शामिल हुए थे. इसके लिए शैलेंद्र महतो की अगुवाई में 45 विधायकों के हस्‍ताक्षर वाली एक चिट्ठी भी मुख्‍यमंत्री को सौंपी गई थी.

इसे भी पढ़ें-सरकार के दबाव में न झुकें मीडिया मालिक, एडिटर्स गिल्ड ने की अपील

कुरमी विकास मोर्चा ने बिरसा मुंडा समाधि स्‍थल पर किया कार्यक्रम

विश्‍व आदिवासी दिवस के मौके पर कुरमी विकास मोर्चा की ओर से बिरसा मुंडा समाधि स्‍थल पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई. इस मौके पर कुरमी विकास मोर्चा के अध्‍यक्ष शीतल ओहदार ने कहा कि टोटेमिक कुरमी आदिकाल से आदिवासी हैं. जल, जंगल, जमीन और भाषा-संस्‍कृति ही आदिवासियों की पहचान है. अभी सबसे बड़ी चुनौती अपनी पहचान को सुरक्षित रखना है. सरकार के द्वारा कुरमियों की पहचान मिटाने की कोशिश की जा रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: