न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कुंभ मेला यूपी को कर देगा मालमाल, 1.2 लाख करोड़ का राजस्व,  छह लाख रोजगार

कुंभ मेले से यूपी को 1.2 लाख करोड़ रुपये का राजस्व मिलेगा. यह आकलन कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री  का है. 15 जनवरी को शुरू हुआ कुंभ चार  मार्च तक चलेगा.

58

NewDelhi :  कुंभ मेले से यूपी को 1.2 लाख करोड़ रुपये का राजस्व मिलेगा. यह आकलन कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री  का है. बता दें कि 15 जनवरी को शुरू हुआ कुंभ चार  मार्च तक चलेगा. हालांकि कुंभ मेले पर भारी खर्च को लेकर काफी चर्चा हो रही है.  मेले को लेकर इंडस्ट्री बॉडी कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई ) ने कहा है कि यह आयोजन उत्तर प्रदेश के लिए 1.2 लाख करोड़ रुपये का राजस्व उत्पन्न करेगा.  सीआईआई  की रिपोर्ट में कहा गया है कि कुंभ एक आध्यात्मिक और धार्मिक आयोजन है, लेकिन इससे जुड़ी आर्थिक गतिविधियों से छह लाख लोगों को रोजगार भी मिलेगा. जानकारी के अनुसार  यूपी सरकार ने 50 दिनों के कुंभ मेले के लिए 4,200 करोड़ रुपये का आवंटन किया है. यह 2013 महाकुंभ मेले की तुलना में तीन गुना अधिक है.  यह अब तक का सबसे महंगा कुंभ है.  सीआईआई  की स्टडी के अनुसार हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में 2.5 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा तो एयरलाइन्स और एयरपोर्ट्स पर करीब 1.5 लाख लोगों के लिए अवसर पैदा होंगे.  इसके अलावा टूर ऑपरेटर्स 45 हजार लोगों को काम पर रखेंगे;  इको टूरिजम और मेडिकल टूरिजम में 85 हजार को रोजगार मिलेगा.

राजस्थान, उत्तराखंड, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के राजस्व में भी वृद्धि संभव

टूर गाइड्स, टैक्सी ड्राइवर्स, उद्यमी सहित असंगठित क्षेत्र में 50 हजार नयी नौकरियां उत्पन्न होंगी. इससे सरकारी एजेंसियों और व्यापारियों की कमाई बढ़ेगी.  मेले से पड़ोसी राज्यों जैसे राजस्थान, उत्तराखंड, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के राजस्व में भी वृद्धि संभव है, क्योंकि बड़ी संख्या में देश और विदेश से आने वाले पर्यटक इन राज्यों में भी घूमने जा सकते हैं. बता दें कि मेले में बड़ी संख्या में विदेशी नागरिक ऑस्ट्रेलिया, यूके, कनाडा, मलयेशिया, सिंगापुर, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड, जिम्बावे और श्रीलंका जैसे देशों से आ रहे हैं.   राज्य के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने कहा कि यूपी सरकार ने इलाहाबाद में कुंभ के लिए 4,200 करोड़ रुपये की राशि दी है और यह अब तक का सबसे महंगा तीर्थ आयोजन बन गया है.  पिछली सरकार ने 2013 में महाकुंभ मेले पर करीब 1,300 करोड़ रुपये की राशि खर्च की थी.  कुंभ मेले का परिसर भी इस बार पिछली बार के मुकाबले लगभग दोगुने वृद्धि के साथ 3,200 हेक्टेयर है

Related Posts

अमित शाह ने चुनावी रैली में कहा, पंडित नेहरू ने संघर्ष विराम नहीं कराया होता, तो #POK का अस्तित्व नहीं होता

कश्मीर में कोई अशांति नहीं है और आने वाले दिनों में आतंकवाद समाप्त हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें : आप पीएम मोदी को मिले उपहार खरीदना चाहते हैं तो तैयार हो जाइए, होगी नीलामी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: