न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कृष्ण फ्लेव्स रेस्टोरेंट में लगी आग, लाखों का नुकसान,  राजधानी की 70% बिल्डिंग में फायर फाइटिंग सिस्टम नहीं

1,455

Ranchi:  जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के सेक्टर टू मार्केट स्थित श्री कृष्ण फ्लेव्स रेस्टोरेंट में शनिवार की अहले आग लग गयी. आग लग जाने से लाखों का नुकसान हुआ है. आग लगने के पीछे के कारण पता नहीं चल पाया है. शॉर्ट सर्किट से आग लगने की आशंका जाहिर की जा रही है. बता दें सेक्टर 2 स्थित श्री कृष्ण फ्लेव्स रेस्टोरेंट में सुबह 4:30 बजे मॉर्निंग वॉक करने वालों ने आग की लपटें देखी. जिसकी सूचना फायर ब्रिगेड को दी गयी. जिसके बाद लगभग 5:00 बजे फायर ब्रिगेड रेस्टोरेंट्स में लगी आग को बुझाने पहुंचा और कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया.

इसे भी पढ़ेंः मॉब लिंचिंग : गोरक्षा के नाम पर महिला समेत तीन की पिटाई, वीडियो वायरल

 लाखों रुपए की हुई क्षति

आग लगने से सेक्टर टू मार्केट स्थित श्री कृष्ण फ्लेव्स रेस्टोरेंट में रखे लाखों रुपए के सामान जलकर राख हो गये. इस दौरान रेस्टोरेंट का अगला और पिछला हिस्सा पूरी तरह से जलकर खाक हो गया. समय रहते अगर आग पर काबू नहीं पाया जाता आग की लपट इतनी तेज़ थी कि आसपास के कई दुकानें आग की चपेट में आ जातीं.

इसे भी पढ़ेंः रातू : प्रेमी को जिंदा जलाने वाली युवती अबतक पुलिस की गिरफ्त से दूर, प्रेमी की हुई मौत

राजधानी की 70 फीसदी बहुमंजिली इमारतों में फायर फाइटिंग की बेहतर सुविधा नहीं  

Related Posts

धनबाद : हाजरा क्लिनिक में प्रसूता के ऑपरेशन के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

परिजनों ने किया हंगामा, बैंक मोड़ थाने में शिकायत, छानबीन में जुटी पुलिस

SMILE

राजधानी रांची की 70 फीसदी बहुमंजिली इमारतों में फायर फाइटिंग की बेहतर सुविधाएं नहीं हैं. नगर विकास विभाग के बिल्डिंग बाईलॉज में यह स्पष्ट है कि जिस भवन की ऊंचाई 15 मीटर अथवा अधिक है या जिस इमारत के ग्राउंड फ्लोर की लंबाई, चौड़ाई 500 वर्ग मीटर से अधिक है, वहां फायर फाइटिंग की बेहतर और वैकल्पिक सुविधाएं देना जरूरी है.

बिल्डिंग बाइलॉज के नियम का नहीं हो रहा पालन

पर बिल्डिंग बाइलॉज के इस नियम का राजधानी में अनुपालन नहीं हो रहा है. अपर बाजार की संकरी गलियां, दिनबंधू लेन, वार्ड नंबर 20 का इलाका, रातू रोड का कृष्णा नगर कालोनी, हिनू, हटिया, तुपुदाना और आसपास के क्षेत्र में धड़ल्ले से बहुमंजिली इमारतों का जिर्णोद्धार तथा निर्माण हो रहा है. इनमें से अधिकतर जगहों पर फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी आसानी से आ-जा नहीं सकती हैं.

 क्या कहते हैं नगर निगम के आंकड़े

नगर निगम के आंकड़ों के अनुसार राजधानी में 150 से अधिक बड़े भवनों में अगलगी की घटना से बचने के लिए वैकल्पिक सीढ़ी की व्यवस्था नहीं है. इतना ही नहीं इनमें फायर फाइटिंग से बचने के लिए अलार्म और पानी के पाइपलाइन भी नहीं हैं. इन भवनों के निर्माताओं की तरफ से अग्निशमन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र भी नहीं लिया गया है.

इसे भी पढ़ेंः रांची सिविल कोर्ट में मासिक लोक अदालत का आयोजन, लंबित मामलों का होगा निस्तारण

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: