West Bengal

#Kolkata: पति की हत्या मामले में 16 साल जेल में रहने के बाद बरी हुई महिला

Kolkata: कलकत्ता उच्च न्यायालय ने हुगली निवासी 72 साल की महिला कविता पाइन को पति की हत्या के मामले में 16 सालों तक जेल की सजा काटने के बाद बुधवार को निर्दोष करार दिया है.

न्यायमूर्ति जयमाल्य बागची और न्यायमूर्ति शुभम घोष की खंडपीठ ने महिला को रिहा करने का आदेश दिया है. दरअसल 1996 के सितम्बर महीने में तापस पाइन की मौत हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: भाजपा प्रत्याशी सत्येंद्र तिवारी के नाम पर स्वीकृत बोलेरो से 29.98 लाख रुपये बरामद

नशे में मारपीट करता था पति

हत्या का आरोप उसकी पत्नी कविता पाइन पर लगा था. जांच में पता चला था कि तापस रोज ही शराब के नशे में धुत्त होकर घर आता था और पत्नी से मारपीट करता था.

23 सितम्बर 1996 की रात भी तापस इसी तरह से नशे में धुत होकर आया था और कविता को मार रहा था. उससे बचने के लिए कविता ने अपने बेटे मृगांक को आवाज दी.

मां की चीख सुन कर पहुंचे मृगांक ने बांस से अपने पिता पर हमला किया था. हालांकि बाद में लड़ाई शांत हो गयी थी और तापस सोने के लिए चला गया.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand_election जानिये पहले चरण की 13 सीटों पर किस पार्टी और किस उम्मीदवार की क्या है स्थिति

जिला न्यायालय ने दोषी करार दिया था

उसके बाद वह कभी नहीं उठा. घरवालों ने बताया था कि उसे हृदय की बीमारी थी और नींद में ही हार्ट अटैक की वजह से उसकी मौत हुई थी. हालांकि पुलिस ने उसी समय कविता को पति की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था.

2004 में जिला न्यायालय ने कविता को हत्या के मामले में दोषी करार दिया था. इसी बीच उसके बेटे मृगांक की भी मौत हो गई थी. इधर एक एनजीओ की मदद से कविता ने कलकत्ता उच्च न्यायालय में अपनी रिहाई की अर्जी लगायी.

अधिवक्ता नारायण चटर्जी ने यह केस लड़ा और अब खंडपीठ ने 16 साल जेल काट लेने के बाद कविता को निर्दोष करार दिया है. उन्हें तत्काल रिहा करने का भी निर्देश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – #Kolkata ममता बनर्जी ने फिर भरी हुंकार कहा, बंगाल में किसी भी कीमत पर NRC लागू नहीं होगा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: