West Bengal

 #MamtaBanerjee की सरकार राजनीति से ऊपर उठकर आयुष्मान भारत योजना लागू करे :   राज्यपाल

Kolkata :  पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और ममता सरकार के बीच एक बार फिर टकराव बढ़ता जा रहा है . गुरुवार को राज्यपाल ने केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत स्वास्थ्य बीमा योजना को लेकर ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा है . उन्होंने कहा कि इस योजना की प्रशंसा पूरी दुनिया में हो रही है, देशभर के गरीब लोगों को इसका लाभ मिल रहा है,  लेकिन ममता सरकार की ओछी राजनीति की वजह से यहां के लोग इस योजना का लाभ लेने से वंचित हो रहे हैं .

Jharkhand Rai

कोलकाता की स्वभूमि में चिकित्सकों के संगठन की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम के इतर मीडिया से बात करते हुए राज्यपाल ने कहा कि उनके पास पश्चिम बंगाल के 3000 से अधिक आवेदन पड़े हुए है, जो आयुष्मान भारत योजना का लाभ लेना चाहते हैं लेकिन पश्चिम बंगाल सरकार के रोड़ा बनने की वजह से उन्हें केंद्र सरकार की इस योजना का लाभ नहीं मिल‌ रहा है .

इसे भी पढ़ें : #Kolkata :  #BulbulCyclone की वजह से अलर्ट पर पश्चिम बंगाल, मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह

केंद्रीय योजनाओं को लागू नहीं करना देश के संघीय ढांचे के प्रतिकूल

उन्होंने कहा कि ममता सरकार को राजनीति से ऊपर उठकर लोगों के हित में आयुष्मान भारत योजना को लागू करना चाहिए . राज्यपाल ने पूछा कि आखिर ममता बनर्जी की सरकार इस महत्वाकांक्षी योजना को लागू क्यों नहीं कर रही है . धनखड़ ने कहा कि लोगों के हित में केंद्रीय योजनाओं को लागू नहीं करना देश के संघीय ढांचे के प्रतिकूल है . ऐसा नहीं किया जाना चाहिए .

Samford

सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस पर स्वास्थ्य से लेकर शिक्षा तक हर विषय पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए राज्यपाल ने कहा, यहां हर बात पर राजनीति होती है, हर चीज पर राजनीतिक रंग चढ़ा हुआ है . स्वास्थ्य को इससे अलग रखना जरूरी है . पिछले तीन महीने में मेरे पास 3000 आवेदन आये हैं, जिसमें पश्चिम बंगाल में आयुष्मान भारत योजना लागू करने की मांग की गयी है . उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव से पूर्व जनवरी महीने में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल को आयुष्मान भारत से अलग करने की घोषणा की थी .

इसे भी पढ़ें : बांग्लादेशी महिला का आधार कार्ड बनवाने में मदद के आरोप में BJP नेता गिरफ्तार, बंगाल BJP अध्यक्ष ने जारी किया था निवास प्रमाण पत्र 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: