न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Kolkata : मेडिकल कॉलेज में नहीं है शव रखने की जगह, अस्पताल में लगाया जा रहा डीप फ्रीज

817

Kolkata : कोलकाता के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल मेडिकल कॉलेज के शवगृह (मोर्ग) में शव रखने की जगह कम पड़ रही है. इसलिए यहां शवों के संरक्षण के लिए डीप फ्रीज लगाया जा रहा है.

कोरोना संकट की वजह से कोलकाता के अधिकतर अस्पतालों से रोगियों को मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में रेफर किया जा रहा है. कोलकाता के अधिकतर अस्पताल कोविड-19 समर्पित हैं. मेडिकल कॉलेज अस्पताल को भी कोविड-19 अस्पताल में तब्दील कर दिया गया है.

यहां बड़ी तादाद में मरीजों की मौत होने की खबर है. हालात को संभालने के लिए मेडिकल कॉलेज के मैनेजमेंट की जिम्मेदारी संभालने के लिए एक असिस्टेंट सुपरिंटेंडेंट की तैनाती भी की गयी है. पता चला है कि मेडिकल कॉलेज के मोर्ग में शव रखने की जगह अब नहीं बची है.

इसे भी पढ़ें – #Corona: हजारीबाग, जमशेदपुर और चाईबासा से मिले एक-एक नये कोरोना पॉजिटिव, झारखंड में संक्रमण के मामले हुए 226

48 घंटे में 16 लोगों की मौत

पिछले 48 घंटे में 16 लोगों की मौत हुई है. हालात को संभालने के लिए मेडिकल कॉलेज प्रबंधन की ओर से राज्य स्वास्थ्य विभाग को चिट्ठी लिखी गयी थी, जिसमें मोर्ग में डीप फ्रीज लगाने का अनुरोध किया गया था. खबर है कि स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल के मोर्ग में 6 अतिरिक्त डीप फ्रीज लगाने की अनुमति दे दी है.

कोलकाता मेडिकल कॉलेज के एनाटॉमी विभाग में विशेष तौर पर फ्रीज को लगाया गया है. कुल मिला कर मंगलवार से यहां 11 अतिरिक्त शवों को रखा जा सकेगा. इसके अलावा शव को मोर्ग में ले जाने के लिए जो ठेके पर कर्मी रखे गये हैं, वे काफी डरे सहमे हैं और कोरोना के डर से वह रोगियों के आसपास भी नहीं फटक रहे हैं. इसलिए प्रतिदिन ठेके पर लोगों को रखना पड़ रहा है, जो शवों को ले जाकर रख रहे हैं. इसके लिए भी अतिरिक्त धनराशि आवंटित की गयी है.

इसे भी पढ़ें – प बंगाल : कोरोना उपचार की निगरानी के लिए सरकार ने बनायी चार कमिटी, जारी नहीं की लॉकडाउन-4 की अधिसूचना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like