न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोलकाता की अदालत ने शशि थरूर के खिलाफ जारी किया गिरफ्तारी वारंट

साल 2018 में थरूर ने एक विवादास्पद बयान देते हुए केंद्र सरकार पर भारत को "हिंदू पाकिस्तान" बनाने का आरोप लगाया था.

813

Kolkata : कोलकाता की मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट (बैंकशाल अदालत) ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता और तिरुअनंतपुरम से सांसद शशि थरूर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है.

उल्लेखनीय है कि साल 2018 में थरूर ने एक विवादास्पद बयान देते हुए केंद्र सरकार पर भारत को “हिंदू पाकिस्तान” बनाने का आरोप लगाया था. उनके इस विवादित बयान के खिलाफ सुमित चौधरी नाम के अधिवक्ता ने कोलकाता की बैंकशाल कोर्ट में उनके खिलाफ मुकदमा दायर किया था.

मंगलवार को मामले की सुनवाई होनी थी जिसमें थरूर को मौजूद रहने के लिए कहा गया था लेकिन वह हाजिर नहीं हुए. इसलिए कोर्ट ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.

इसे भी पढ़ें : NEWS WING IMPACT : खनन पदाधिकारी ने अगले आदेश तक क्रशर पर लगाया प्रतिबंध

क्या है मामला

11 जुलाई, 2018 को थरूर ने कहा था कि यदि 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा जीतती है तो वह भारत को ‘हिंदू पाकिस्तान’ बनाने जैसे हालात पैदा कर देगी.

उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र तिरुवनंतपुरम में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि भाजपा एक नया संविधान लिखेगी जो भारत को पाकिस्तान जैसे राष्ट्र में बदलने का रास्ता साफ करेगा, जहां अल्पसंख्यकों के अधिकारों का हनन किया जायेगा, उनका कोई सम्मान नहीं होगा.

Related Posts

#TMC सांसद  डेरेक ओ ब्रायन का तंज,  बंगाल फतह के बजाय बांग्ला सीखने पर ध्यान दें भाजपा नेता   

उन्होंने नसीहत दी है कि भाजपा को बंगाल फतह का लक्ष्य भूलकर पहले बांग्ला सीखने और देश की आर्थिक हालत को सुधारने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

WH MART 1

उन्होंने कहा था कि यदि भाजपा दोबारा लोकसभा चुनाव जीतती है तो देश का लोकतांत्रिक संविधान खत्म हो जायेगा. भाजपा द्वारा लिखा गया नया संविधान पूरी तरह से हिंदू राष्ट्र के सिद्धांतों पर आधारित होगा, जो अल्पसंख्यकों के अधिकारों को पूरी तरह से खत्म कर देगा और भारत को ‘हिंदू पाकिस्तान’ बना देगा.

उनके इस बयान की तीखी आलोचना हुई थी. भाजपा ने थरूर के इस बयान के लिए राहुल गांधी से माफी की मांग की थी और तर्क दिया था कि जिस तरह से पाकिस्तान का गठन कांग्रेस ने किया उसी तरह से एक बार फिर भारत में रह रहे बहुसंख्यक समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हुए कांग्रेस भारत विभाजन की साजिश रच रही है.

इसे भी पढ़ें : विलय के बाद भी राज्य के सरकारी स्कूलों में 14 हजार शिक्षकों की कमी, RTE के आठ साल बाद ये हाल

माफी नहीं मांगी 

हालांकि न तो राहुल गांधी और ना ही थरूर ने माफी मांगी. बाद में अधिवक्ता चौधरी ने कोलकाता की इस कोर्ट में उनके खिलाफ मामला किया था जिस पर सुनवाई चल रही है.

थरूर का पक्ष जानने के लिए कोर्ट ने उन्हें मंगलवार होने वाली सुनवाई में शामिल होने के लिए कहा था लेकिन इस मामले में जितनी भी सुनवाई हुई है उसमें से किसी में भी थरूर हाजिर नहीं हुए, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : धनबाद : सीमा पर तैनात जवानों के लिए कार्मेल की छात्राओं ने बनायी राखी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like