West Bengal

#Kolkata : विधानसभा में बजट पेश,  ममता का दावा, जनता के पक्ष में है बजट,  बंगाल में घटी है बेरोजगारी, बढ़ा है निवेश

विज्ञापन

Kolkata : पश्चिम बंगाल सरकार का बजट सोमवार को पेश होने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मीडिया से बात की और बजट के परिप्रेक्ष्य में दावा किया कि बंगाल में विगत साल की तुलना में बेरोजगारी तेजी से घटी है और निवेश बढ़ा है, इसके अलावा उन्होंने केंद्र सरकार पर वित्तीय आवंटन रोकने का आरोप भी मढ़ा. राज्य के बजट को उन्होंने जनता के पक्ष में करार दिया.

केंद्र सरकार के पास राज्य सरकार का एक लाख करोड़ बकाया 

ममता ने कहा कि जन्म से लेकर मौत तक सरकार लोगों के लिए तमाम तरह की परियोजनाएं चलाती है.सीएम ने दावा किया कि केंद्र सरकार के पास राज्य सरकार का एक लाख करोड़ रुपये बकाया है. मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उन्हें 50 हजार करोड़ रुपये का बकाया चुकाना पड़ा है. कहा कि प्रत्येक जिले में विश्वविद्यालय खोला जा रहा है. छात्रों को बैग, जूता, किताबें बिना मूल्य दिये जाते हैं. सीएम ने कहा कि हम लोगों ने बजट में किसी भी तरह का कोई कर नहीं बढ़ाया है.

इसे भी पढ़ें : कमलनाथ ने #RSS को चेताया- आदिवासियों को हिंदू बताने के लिए अभियान चलाया तो होगी कानूनी कार्रवाई

advt

आवास योजना के मामले में बंगाल शीर्ष पर है

अल्पसंख्यकों के लिए वित्तीय आवंटन में 9.5 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई है. बुलबुल चक्रवात के लिए 12 सौ करोड़ रुपये की क्षतिपूर्ति राज्य सरकार दे चुकी है. राज्य के किसानों की आय 3 गुनी बढ़ी है. आवास योजना के मामले में बंगाल शीर्ष पर है. 100 दिनों के रोजगार के मामले में भी शीर्ष पर है। ममता ने कहा कि राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में हर तरह की चिकित्सा मुफ्त है.

उच्च शिक्षा के लिए 20 फ़ीसदी अधिक वित्तीय आवंटन किया गया है. 3 नये विश्वविद्यालय बनाये जाएंगे. उन्होंने कहा कि आदिवासियों के लिए भी सरकार ने इस बार वित्तीय आवंटन में बढ़ोतरी की है. परोक्ष तौर पर विश्व हिंदू परिषद पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि एक राजनीतिक संगठन ने आदिवासियों का धर्मांतरण कराया था इसलिए आदिवासी समुदाय को सुरक्षा दी जायेगी.

उनकी जमीनों का हस्तांतरण नहीं होगा. उन्होंने कहा कि आदिवासी जातियों के लिए “शिक्षाश्री” परियोजना तैयार की जाएगी. बनर्जी ने दावा किया कि पिछले साल की तुलना में बेरोजगारी काफी घटी है. बड़ी संख्या में उद्योग बंगाल के तरफ आये हैं. केंद्र पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार रेलवे, बीएसएनएल सब कुछ बेच रही है. जीवन बीमा, लोगों की जिंदगी सब कुछ बेचा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : राज्यसभा में #PChidambaram ने कहा, अर्थव्यवस्था की कमान अनाड़ी डाक्टरों के हाथ में, ढहने के कगार पर

adv

बजट में वादों की भरमार, अमित मित्रा ने की कई परियोजनाओं की घोषणा

पश्चिम बंगाल विधानसभा में वित्त व उद्योग मंत्री अमित मित्रा ने सोमवार को बजट पेश करते हुए कई नयी परियोजनाओं की घोषणा करते हुए पहले से चल रही परियोजनाओं के लिए भी वित्तीय आवंटन का एलान किया. अमित मित्रा ने 2 लाख 55 हजार 677 करोड़ रुपये का घाटे का बजट पेश किया, जिसमें उन्होंने 11 नयी परियोजनाओं की घोषणा की. हालांकि इस बार 8 करोड़ रुपये घाटे वाला बजट पेश किया गया है. मित्रा ने दावा किया कि पूरे देश में आर्थिक मंदी के बावजूद बंगाल में 9,11000 नये रोजगार सृजित किये गये हैं.

सिविल सर्विस परीक्षा में बंगाल के छात्रों को प्रशिक्षित करने की व्यवस्था की गयी है. विशेषकर कोलकाता, सिलीगुड़ी, दुर्गापुर में महात्मा गांधी, जय हिंद और आजाद के नाम से तीन सिविल सर्विस अकाडमी तैयार की गयी हैं. 2744 बांग्ला सहायता केंद्रों से कन्याश्री और अन्य परियोजनाओं का सर्टिफिकेट मिलेग. वित्त मंत्री ने कहा कि आदिवासी जातियों के लिए 805.10 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित की गयी है.

जनजातियों के विकास के लिए 933 करोड़  की धनराशि आवंटित

जनजातियों के विकास के लिए 933 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित करने की गयी है. अल्पसंख्यकों के लिए 3600 करोड़ रुपये आवंटित हुए है. बंधु परियोजना के तहत आदिवासी जातियों को प्रति महीने ₹1000 रुपये का भत्ता दिया जायेगा. “हांसिर आलो” (हंसी का प्रकाश) नाम से एक नयी परियोजना की घोषणा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि इसके तहत गरीबों को बिजली मुहैया कराई जायेगी.

 बंगाल में बेरोजगारी 40 फ़ीसदी घटी है

इस परियोजना के लिए 200 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित की गयी हैं. कार्य साथी” योजना के तहत बेरोजगार युवक-युवतियों को सहकारी बैंकों से ऋण दिया जायेगा. प्रतिवर्ष एक लाख रोजगार सृजित करने पर सरकार फोकस करेगी. इसके लिए 500 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित की गयी है.

वित्त मंत्री ने दावा किया कि बंगाल में बेरोजगारी 40 फ़ीसदी घटी है. आदिवासी जातियों को जय जोहार परियोजना के तहत ₹1000 रुपये का मासिक भत्ता दिया जायेगा. अगले साल में तीन नये विश्वविद्यालय खोले जायेंगे, जिसके लिए 50 करोड़ की धनराशि आवंटित की गई है.

सूक्ष्म और लघु उद्योगों के लिए बांग्लाश्री योजना के तहत 100 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित हुई है. मध्यम उद्योगों में 246419 करोड़ जबकि बड़े उद्योग के लिए 4.5 लाख करोड़ रुपये के निवेश का प्रस्ताव दिया गया है. वित्त मंत्री ने दावा किया कि 22267 करोड़ रुपये का विदेशी निवेश राज्य को मिलेगा.  सौ दिनों के रोजगार, कुटीर उद्योग, ग्रामीण आवास योजना, ग्रामीण सड़क योजना, स्किल डेवलपमेंट, इज ऑफ डूइंग बिजनेस और ई-टेंडरिंग में बंगाल टॉप पर है.

बंगाल में रोजगार वृद्धि दर  3.1 फीसदी है

मित्रा ने दावा किया कि आज पूरे देश में जहां रोजगार वृद्धि दर 0.6% है वहीं बंगाल में 5 गुना अधिक 3.1 फीसदी है. उन्होंने कहा कि देश का जीडीपी नीचे गिर रहा है जबकि बंगाल में यह 10.4 फीसदी है जो पूरे देश से दुगना है. अमित मित्रा ने बजट पेश करने के बाद मीडिया से बात करते हुए केंद्र सरकार पर भी हमला बोला.

उन्होंने कहा कि पूरे देश में अर्थव्यवस्था धीमी चल रही है. इससे आम लोग पीड़ित हुए हैं. उन्होंने दलित और महादलित जातियों के लिए चलने वाली सरकारी परियोजना “बंधु” के लिए 2500 करोड़ के वित्तीय आवंटन की घोषणा की.

इसे भी पढ़ें : #CAA_NRC_Protest : संसद तक मार्च निकाल रहे जामिया के प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने रोका, लाठी चार्ज

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button