GiridihJharkhandLead News

बगोदर से होकर गुजरेगी कोलकाता-बनारस बुलेट ट्रेन, रेल मंत्रालय से अंतिम स्वीकृति का इंतेजार

Manoj Kumar Pintu

Giridih : साढ़े सात सौ किलोमीटर लंबे बनारस-कोलकाता बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट गिरिडीह के बगोदर से हो कर गुजरेगी. इस खबर से गिरिडीह जिले के लोगों में खुशी है. जापान के वित्तीय सहयोग से अहमदाबाद-मुंबई के बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के बाद देश का यह दूसरा प्रोजेक्ट होगा, जो गिरिडीह के बगोदर से हो कर गुजरेगा.

advt

इसे भी पढे़ंः करीम सिटी कॉलेज : दो छात्रों का 10 लाख के पैकेज पर हुआ कैंपस सेलेक्शन

बगोदर के नेशनल हाईवे से कुछ किमी दूर जिन गांवों का की जमीन अधिग्रहण की गयी, वह बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए ही की गयी है. इसे कन्फर्म करते हुए दिल्ली की सर्वे एजेंसी ग्रोवर इंफ्रा के प्रोजेक्ट प्रभारी लोकेश भारद्वाज ने कहा कि कोलकाता-बनारस बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए कोई और रास्ता ही नहीं है.

लिहाजा, रेल मंत्रालय ने इसी रूट पर फिलहाल सर्वे करने की अनुमति दी है. रूट का ब्लूप्रिंट यानि नक्शा बनकर तैयार है. जिसके आधार पर सर्वे किया गया. वैसे ग्रोवर इंफ्रा के प्रोजेक्ट प्रभारी का यह भी कहना है कि फिलहाल इस रूट को फाईनल नहीं कहा जा सकता. लेकिन सर्वे को एक साल में पूरा कर रेल मंत्रालय को सौंप देना है.

इसे भी पढ़ेंः एमएक्स प्लेयर की वेब सीरीज ज्योमेट्री बॉक्स से डेब्यू कर रहीं धनबाद की रिद्धिमा

इसके बाद रेल मंत्रालय इसकी अंतिम स्वीकृति देगा. स्वीकृति मिलने के बाद डीपीआार और टेंडर समेत कई और प्रकियाओं को आगे बढ़ाया जाएगा. सर्वे का एक पार्ट पूरा हो चुका है. जिसमें बनारस से लेकर बगोदर होते हुए धनबाद तक सर्वे पूरा हो चुका है. अब सिर्फ बंगाल के हावड़ा का सर्वे होना है.

अगले कुछ दिनों में उस पर कार्य शुरु किया जाएगा. प्रोजेक्ट प्रभारी ने यह भी बताया कि धनबाद के बराकर नदी होते हुए बुलेट ट्रेन की रेल पटरी हावड़ा तक पहुंचेगी. वैसे प्रोजेक्ट प्रभारी ने यह नहीं साफ किया कि बगोदर से लेकर धनबाद तक कितने मौजो की जमीन का सर्वे किया गया. और कितनी जमीन रैयती और सरकारी है.

इसे भी पढ़ेंः 21 वर्षों में बने ग्रामीण सड़क व पुलों का डाटा बेस होगा तैयार, सॉफ्टवेयर बनकर तैयार

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: