Education & Career

कोल्हान विवि ने यूजी-पीजी सिलेबस में किया बदलाव, पीजी में पेपर की संख्या बढ़ी

विज्ञापन

Ranchi : कोल्हान विश्वविद्यालय ने अपने यूजी और पीजी कोर्स में बदलाव किये हैं. ये बदलाव सीबीसीएस (च्वाइस बेस्ड ग्रेडिंग सिस्टम) के तहत संचालित कोर्स में हुए हैं. विश्वविद्यालय की ओर से यह बदलाव यूजीसी की ओर से जारी गाइडलाइन को देखते हुए किया गया है. बदलाव की विस्तृत जानकारी विश्वविद्यालय ने साझा कर दी है. यूजीसी की गाइडलाइन के तहत जो जानकारी साझा की गयी है, उसके मुताबिक अब पीजी में चार पेपर की जगह पांच पेपर होंगे.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में कोरोना का कहर : एक ही दिन 3 की गयी जान, राज्य में संक्रमण से अब तक 18 मौतें

एक सप्ताह में 30 क्लास

यूजीसी ने क्लास संचालन को लेकर भी गाइडलाइन दिया है. जिसका पालन करते हुए अब कोल्हान विश्वविद्यालय में सप्ताह में 30 क्लास चलेंगी. यह यूजी और पीजी दोनों के लिए तय की गयी है. सिलेबस की बात करें तो पीजी में फाउंडेशन कोर्स व इलेक्टिव को हटा दिया गया है. अब कोर कोर्स डिस्प्लिनरी स्पेसिफिक इलेक्टिव का एक कोर्स रखना जरूरी होगा. इसके अलावा यूजी कोर्स में भी बदलाव किये गये हैं. यूजी कोर्सेस में जो बदलाव किये गये हैं, उसके अनुसार एबिलिटी इनहांसमेंट कंपलसरी कोर्स होगा. इसमें पहले और दूसरे सेमेस्टर में इंग्लिश और एमआइएल कंपोजीशन का विषय रखा गया है. सेकंड सेमेस्टर में एनवायरमेंट साइंस को अनिवार्य विषय रखा गया है.

advt

इसे भी पढ़ें – कोलकाता से दिल्ली और अन्य शहरों के लिए 6 से 19 जुलाई तक सभी उड़ानें रद्द

बिना किताब के सिलेबस पूरा करने पर जोर

कोल्हान विवि ने शैक्षणिक सत्र 2019-20 को पूरा करने का निर्णय लिया है. इसके तहत फर्स्ट और लास्ट सेमेस्टर के स्टूडेंट्स को परीक्षा देनी होगी. अन्य सेमेस्टर के स्टूडेंट्स को यूजीसी गाइडलाइन के अनुसार प्रमोट किया जायेगा. फर्स्ट सेमेस्टर के स्टूडेंट्स की कई परीक्षाएं हो चुकी हैं. इन्हें कुछ ही पेपर की परीक्षा देनी होगा. लेकिन लास्ट सेमेस्टर के स्टूडेंट्स को सभी पेपर की परीक्षाएं देनी हैं. लेकिन लास्ट सेमेस्टर में कई ऐसे विषय हैं, जिनकी किताबें खुले बाजार में नहीं मिल रही हैं. ऐसे में स्टूडेंट्स के पास बिना किताब के सिलेबस पूरा करने का चैलेंज है.

इसे भी पढ़ें – भारत-बांग्लादेश के बीच द्विपक्षीय व्यापार में ममता सरकार बनी रोड़ा, बॉर्डर के दोनों ओर खड़े हैं सैंकड़ों ट्रक

adv
advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button