न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोलेबिरा उपचुनाव : संभावित प्रत्याशी को गिरफ्तार करने पर राजनीति गरमायी, भाजपा पर साजिश का लगा आरोप

तीन नामों की भेजी सूची, पूर्व विधायक नियेल तिर्की का नाम भी है शामिल, यूथ कांग्रेस जिला अध्यक्ष ने कहा “वोटर लिस्ट में नहीं है विकसल कोंगाड़ी का नाम”

49

Ranchi : बिजली विभाग के कर्मचारी से मारपीट मामले में कोलेबिरा उपचुनाव के संभावित कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व विधायक नियेल तिर्की की गिरफ्तारी के बाद राज्य की राजनीति गरमा गयी है. अपनी गिरफ्तारी के दौरान नियेल तिर्की ने मुख्यमंत्री रघुवर दास पर निशाना साधा. कहा कि उपचुनाव के पूर्व उनकी गिरफ्तारी भाजपा सरकार की सोची-समझी राजनीति है. सीएम रघुवर सोचते हैं कि उनकी गिरफ्तारी से भाजपा को फायदा होगा, लेकिन हकीकत यह है कि कांग्रेस की स्थिति उपचुनाव में काफी मजबूत है. पार्टी बड़े अंतर से चुनाव में जीत दर्ज करेगी. वहीं, संभावित प्रत्याशी विकसल कोंगाड़ी के वोटर लिस्ट में नाम नहीं होने पर यूथ कांग्रेस के जिला अध्यक्ष विशाल तिर्की ने सवाल खड़ा किया है. सूत्रों के मुताबिक उपचुनाव में प्रत्याशी के लिए कांग्रेस पार्टी ने केंद्रीय आलाकमान को तीन नाम भेजे हैं. संभावना है कि शनिवार रात तक इस पर मुहर लगा दी जायेगी. इन तीन नामों में गिरफ्तार किये गये पूर्व विधायक नियेल तिर्की, उनके बेटे विशाल तिर्की समेत विकसल कोंगाड़ी शामिल हैं.

पहले ही डाली जा चुकी है कम्प्रोमाइज पिटीशन, चार दिसंबर को होनी है सुनवाई

मामले को लेकर विशाल तिर्की ने कहा है कि कोलेबिरा उपचुनाव के पहले भाजपा कांग्रेस की मजबूत स्थिति से परेशान हो गयी है, इसलिए उनके पिताजी को गिरफ्तार करवाया गया है. बिजली विभाग के कर्मचारी से मारपीट मामले में पहले ही कोर्ट में कम्प्रोमाइज पिटीशन डाली गयी है. चार दिसंबर को इस मामले में कोर्ट में सुनवाई होनी है. वहीं, तीन दिसंबर तक उपचुनाव के नॉमिनेशन भरने की तिथि निर्धारित है. ऐसे में भाजपा नहीं चाहती है कि कांग्रेस अपना यह मजबूत उम्मीदवार खड़ा कर सके.

वोटर लिस्ट में नाम नहीं है विकसल कोंगाड़ी का

अपनी उम्मीदवारी के सवाल पर विशाल तिर्की का कहना है कि बूथ स्तर पर पार्टी की मजबूती को लेकर उन्होंने काफी काम किया है. ऐसे में वह यहां से संभावित प्रत्याशी हो सकते हैं. जहां तक विकसल कोंगाड़ी को प्रत्याशी बनाने की बात है, तो उनका नाम वोटर लिस्ट में नहीं है. लिहाजा उन्हें प्रत्याशी बनाने का सवाल नहीं होता. आचार संहिता के बाद वोटर लिस्ट में किसी का नाम जोड़े जाने का भी प्रावधान नहीं है. ऐसे में भाजपा यह समझ गयी है कि नियेल तिर्की या विशाल तिर्की को पार्टी संभावित प्रत्याशी बना सकती है. इसी को ध्यान में रख भाजपा ने उनके पिताजी को गिरफ्तार करवाया है. वहीं, विकसल कोंगाड़ी के संभावित उम्मीदवारी पर पार्टी के ही एक नेता ने बताया है कि पार्टी अगर उन्हें अपना प्रत्याशी बनाती है, तो यह एक तरह से लंगड़े घोड़े पर दांव लगाने जैसा है.

लोकतंत्र का हनन है नियेल तिर्की की गिरफ्तारी : अनूप केसरी

नियेल तिर्की की गिरफ्तारी पर सिमडेगा जिला कांग्रेस अध्यक्ष अनूप केसरी ने भी नाराजगी जतायी है. उन्होंने कहा कि उपचुनाव से पहले कोलेबिरा के किसी कद्दावर नेता की गिरफ्तारी साफ करती है कि भाजपा पूरी तरह से बैकफुट पर आ गयी है. यह घटना भाजपा सरकार की मंशा बताती है कि कांग्रेस के प्रति उसकी क्या सोच है. भाजपा उपचुनाव में किसी भी उम्मीदवार को देखना नहीं चाहती है. सभी दल अपना हथियार डाल दें, ताकि भाजपा क्लीन स्वीप करे. लेकिन, कांग्रेस पार्टी भाजपा की इस मंशा को कभी पूरा नहीं होने देगी.

इसे भी पढ़ें- बिजली विभाग के जेई से मारपीट मामले में पूर्व विधायक नियेल तिर्की गिरफ्तार

इसे भी पढ़ें- मेनन एक्का ने रांची में सीएनटी एक्ट का उल्लंघन कर खरीदी जमीन, तत्कालीन एलआरडीसी की भी रही थी मिलीभगत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: