Crime NewsJharkhandKoderma

कोडरमा : फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों से की ठगी, पुलिस ने मामले का किया उद्भेदन

Koderma : फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को ठगी का शिकार बनाने के मामले में पुलिस ने एक युवक को दुमका से गिरफ्तार किया है. एसडीपीओ अशोक कुमार ने बताया कि तिलैया थाना क्षेत्र के विशुनपुर रोड निवासी रामदेव यादव ने गत 6 जुलाई को तिलैया थाना में साइबर अपराधियों द्वारा फर्जी बैंक अधिकारी बनकर 96 हजार रुपये की ठगी करने का मामला दर्ज कराया था.

एसपी डॉ. एहतेशाम वकारीब के निर्देश पर कांड के उद्भेदन को लेकर एक विशेष टीम का गठन किया गया. मामले को लेकर जांच के क्रम में तकनीकी शाखा के सहयोग से घटना में प्रयोग किए गए 4 मोबाइल नंबर एवं एक टोल फ्री नंबर के धारक का नाम पता किया गया.

इसे भी पढ़ें :Jamtara: कांसे के बर्तन बनाने के कारोबार पर लॉकडाउन की मार, कर्मकारों की माली हालत बिगड़ी

जिसके बाद विशेष टीम में शामिल पदाधिकारी के नेतृत्व में दुमका जिले के काठीकुंड थाना क्षेत्र के आलबेडा गांव से जुलकर अंसारी (32), पिता स्वर्गीय युसूफ अंसारी को गिरफ्तार किया गया.

गिरफ्तारी के क्रम में पुलिस ने आरोपी के पास से एक फिंगर स्कैनर मशीन, चार पीस मोबाइल, विभिन्न बैंकों का 108 पीस एटीएम कार्ड तथा विभिन्न बैंकों का 10 पासबुक बरामद किए गये.

इसे भी पढ़ें :राज्य के 15 लाख उपभोक्ताओं ने कनेक्शन ले लिया, पर जमा नहीं किया बिजली बिल, जेबीवीएनएल काटेगा कनेक्शन

पूछताछ में आरोपी युवक ने बताया कि ग्रुप में उसके अलावा सरफराज अंसारी उर्फ मासे उर्फ सुल्तान अंसारी एवं साहिल अंसारी शामिल हैं. सभी साथ मिलकर फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को अपने झांसे में लेकर ठगी का शिकार बनाया करते हैं.

आरोपी ने बताया कि ठगी का पैसा अपने मामा लालमुउद्दीन अंसारी एवं प्रकाश सिंह के खाते में मंगाकर आपस में बटवारा करते थे. इसके अलावा बरामद विभिन्न एटीएम कार्ड में भी रुपया मंगाकर रुपए की निकासी की जाती थी.

इसे भी पढ़ें :Samastipur : अंतिम संस्कार कर लौट रहे थे, बूढ़ी गंडक में नाव डूबी, तीन की मौत, 6 लापता

Related Articles

Back to top button