न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाबूलाल मरांंडी के नामांकन में भी दिखी महागठबंधन की एकजुटता, हेमंत सोरेन ने कहा : एनडीए को हराना मकसद

पूर्व सीएम हेमंत के साथ कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय और पूर्व मंत्री सुबोधकांत भी हुए शामिल

335

Giridih : महागठबंधन के साझा उम्मीदवार सह झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांंडी ने सोमवार को गिरिडीह में कोडरमा लोकसभा सीट के लिए नामांकन दाखिल किया. झाविमो सुप्रीमो के नामांकन के दौरान महागठबंधन की एकजुटता नजर आई. मरांडी के नामांकन में पूर्व सीएम हेमंत सोरेन, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार, रांची के पूर्व सांसद सुबोधकांत सहाय, झाविमो केंद्रीय उपाध्यक्ष डॉ सबा अहमद, कांग्रेस नेता डॉ सरफराज अहमद शामिल हुए.

इसे भी पढ़ें : काफी माथापच्ची के बाद हजारीबाग से गोपाल साहू को कांग्रेस ने बनाया…

नामांकन के बाद जनसभा को किया गया संबोधित 

नामांकन के बाद बाबूलाल मरांडी समेत महागठबंधन के नेताओं ने कोडरमा के झंडा मैदान में जनसभा को संबोधित भी किया. झारखण्ड में महागठबंधन का स्वरूप तैयार होने के बाद ये पहला मौका था जब, नामांकन में महागठबंधन के सभी बड़े चेहरे और झारखंड के दिग्गज नेता एक साथ एक मंच पर दिखे. बाबूलाल के नामांकन के बाद झंडा मैदान में आयोजित जनसभा में भारी भीड़ भी जुटी.

इसे भी पढ़ें : जेएमएम उम्मीदवार जगरनाथ महतो को पता होना चाहिए कि नेता का सौदा हो चुका…

कोडरमा में महागठबंधन की जीत तय करना

पत्रकारों से बातचीत करते हुए हेमंत सोरेन ने कहा कि महागठबंधन की एकजुटता दिखाने के लिए ही सभी दल के नेता मरांंडी के नामांकन में शामिल हुए. महागठबंधन का एक ही मकसद है एनडीए के प्रतिद्धंदी को पराजित कर कोडरमा में महागठबंधन की जीत तय करना. जिसमें गठबंधन के सभी दलों ने पूरा ताकत झोंक दिया है.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह के भेलवाघाटी में मुठभेड़, सीआरपीएफ का जवान शहीद, तीन नक्सलियों के शव बरामद

नामांकन के बहाने अपनी ताकत दिखाने की कोशिश

कोडरमा में बाबूलाल मरांडी के सामने बीजेपी की प्रत्याशी अन्नपूर्णा देवी होंगी. अन्नपूर्णा देवी राजद छोड़ बीजेपी में शामिल हुई हैं. इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि, बीजेपी के अंतर्विरोध का सामना अन्नपूर्णा को करना पड़ सकता है. रवींद्र राय जो कोडरमा से बीजेपी के सांसद हैं, अगर उनका साथ मिल जाता है तो अन्नपूर्णा की राह थोड़ी आसान हो सकती है. लेकिन जब अन्नपूर्णा के सामने बाबूलाल और उनके साथ हेमंत सोरेन, डॉ अजय कुमार, गौतम सागर राणा जैसे नेता एक साथ होंगे तो, अन्नपूर्णा की राह मुश्किल हो सकती है. यही वजह है कि महागठबंधन के नेताओं ने नामांकन के बहाने अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की है.

इसे भी पढ़ें : पिता के दाह संस्कार के लिए आज जेल से रांची लाया जायेगा गैंगस्टर अनिल शर्मा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: