JharkhandPalamu

ज्ञान अमीरी और गरीबी देखकर किसी के पास नहीं आता : SP

Palamu : पलामू के पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा ने कहा कि ज्ञान किसी की जागीर नहीं है. ज्ञान वही प्राप्त करता है, जो ईमानदारी के साथ मेहनत करता है. ज्ञान अमीरी और गरीबी देखकर किसी के पास नहीं आता. ज्ञान तो उसे ही मिलता है, जो उसे पाने के लिए निष्ठा और पूरी ईमानदारी के साथ मेहनत करता है. कई बार ऐसा देखा जाता है कि गांव में रहनेवाले लोग अपने अंदर यह भावना भर लेते हैं कि गांव में हैं, सुविधा कम है, इसलिए बेहतर नहीं कर पाये. शहर के लोग इसलिए आगे बढ़ रहे हैं कि उनके पास सुविधा है. लेकिन, वास्तविक मामले में ऐसा कुछ होता नहीं है. वास्तविक ज्ञान गांव में ही मिलता है, जहां किताबी शिक्षा के साथ व्यावहारिक ज्ञान भी मिलता है. गांव में रहनेवाले लोग प्रकृति के निकट होते हैं और प्रकृति से बड़ा गुरु कोई नहीं होता. पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा शनिवार को पड़वा प्रखंड के कजरी उत्क्रमित मध्य विद्यालय में आईपीडीसीएस के संचालक अनुज कुमार सिंह द्वारा आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे. समारोह की अध्यक्षता अनुज कुमार सिंह ने की.

इसे भी पढ़ें- इस बेटी के साथ जो हुआ उसके बाद कोई नहीं चाहेगा पिता ऐसा हो

आगे बढ़ने के लिए विनम्रता जरूरी है

मौके पर एसपी ने कहा कि प्रकृति से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है. कैसे विपरीत परिस्थितियों में आगे बढ़ना है, इसकी भी प्रेरणा मिलती है. आगे बढ़ने के लिए विनम्रता जरूरी है. विनम्रता परिवार के संस्कारों से आती है. इसलिए शिक्षा के साथ-साथ संस्कार का संचय करना जरूरी है. आज समाज के अंदर जो अंधविश्वास है, दहेज जैसी कुरीतियां हैं, उसे मिटाने के लिए युवा अपनी सक्रिय भूमिका निभायें, क्योंकि युवा बदलाव के वाहक होते हैं. उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालय में पढ़नेवाले बच्चे अपने अंदर कभी भी हीन भावना न लायें कि सरकारी विद्यालय में पढ़नेवाले बच्चे बेहतर नहीं कर सकते. बल्कि, इस विद्यालय के बच्चे बेहतर कर सकते हैं. इसके उदाहरण वह खुद हैं. उन्होंने कहा कि अनुज ने जो युवाओं को रास्ता दिखाया है, उसे आगे बढ़ाने की जरूरत है. सरकारी विद्यालय में पढ़कर ही वह आज इस मुकाम तक पहुंचे हैं.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें- इस बेटी के साथ जो हुआ उसके बाद कोई नहीं चाहेगा पिता ऐसा हो

युवाओं को रोजगारपरक शिक्षा देने की जरूरत : गंगा प्रसाद

नीलांबर-पीतांबर विवि के परीक्षा नियंत्रक गंगा प्रसाद सिंह ने कहा कि गांव में रहनेवाले युवा प्रतिभवान हैं, बस जरूरत है प्रतिभा को प्रोत्साहित कर सही रास्ते पर ले जाने की. आज युवाओं को रोजगारपरक शिक्षा देने की जरूरत है, क्योंकि सभी को सरकारी नौकरी मिलना संभव नहीं है. समारोह में गांव के जिन बच्चों ने अपनी प्रतिभा के बल पर बेहतर किया है, उसे सम्मानित किया गया. इस मौके पर प्रमुख सुचिता देवी, थाना प्रभारी मो. रुस्तम खान, अवर निरीक्षक, सुदामा सिंह, विद्यालय के प्रधानाध्यापक अशोक पाठक, ब्रजेश सिंह, पप्पू सिंह, प्रसिद्ध नारायण सिंह, त्रिभुवन पाठक, सुमेर सिंह, योगेश सिंह, तरुण सिंह सहित कई लोग मौजूद थे.

Related Articles

Back to top button